लॉकडाउन के बीच मे क्राइम की संख्या में कमी देखने को मिली है लेकिन क्राइम पूरे ढंग से खत्म नहीं हुआ है हाल ही में असम के करीमगंज जिले के नीलांबाजार पुलिस स्टेशन के तहत सफाला गांव में दिहाड़ी मजदूर की निर्मम हत्या करने का मामला सामने आया है। दस हत्यारों को गिरफ्तार कर एक अदालत में पेश किया गया और उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

मजदूर की पत्नी रहीना बेगम द्वारा प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी जिसमें उनके पति नजारुल इस्लाम की हत्या का आरोप लगाया गया था। प्राथमिकी के अनुसार नजारुल इस्लाम की धारदार हथियार से लैस 10-12 लोगों के एक समूह ने रात के करीब 2.30 बजे नजरुल के घर में घुसकर उस पर हमला कर बेरहमी से हत्या कर दी।बताया जा रहा है कि हत्या भूमि संबंधी विवाद को लेकर की गई है। इसी के साथ हत्यारों के साथ कड़वे शब्दों में बोलने वाले नजारुल इस्लाम के सिर पर हथियार से प्रहार किया और मौत के घाट उतार दिया।