मिशन बंगाल के साथ अब मिशन आसाम पर भी काम कर रही है लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल। बीजेपी को मात देने के लिए हर मुमकिन कोशिश में जुट गई है आरजेडी। आरजेडी की ओर से गए दो वरिष्ठ नेताओं ने पिछले दो दिनों में प्रशांत किशोर और और टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की और अब यही टीम असम जाएगी और असम में आल इंडिया यूनाईटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट पार्टी के मुखिया बदरुद्दीन अजमल से मुलाकात करेगी।

पार्टी के वरिष्ठ नेता श्याम रजक का कहना है कि हमारी कोशिश यही है कि हर हाल में बंगाल और असम में होने वाले चुनाव में बीजेपी को परास्त मिले। बीजेपी को हराने के लिए जो मुमकिन होगा वह हम करेंगें। टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी से हमारी बात सकारात्मक रही है, अभी और बातें होनी हैं। हम इस बात पर मंथन कर रहे हैं कि आने वाले चुनाव में हम बीजेपी को कैसे परास्त करेंगे। उसके लिए किस तरह की रुपरेखा तैयार करनी है इसपर हमलोगों ने काम शुरु कर दिया है।

बुधवार को वहां पर पार्टी के कार्यकर्ताओं से मुलाकात होनी है उनके साथ बैठक होनी है, साथ ही एआईयूडीएफ के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल से भी मुलाकात की जाएगी, यानि असम में भी लालू प्रसाद यादव की पार्टी एक नए गठबंधन के तहत चुनाव लड़ना चाहती है। पार्टी के वरिष्ठ नेता श्याम रजक ने कहा कि हमारी एक ही कोशिश है बीजेपी को उखाड़ फेंकने की। इसके लिए हमें जो करना हो हम लोग करेंगे, हर मुमकिन कोशिश करेंगे, ताकि पार्टी के तमाम कार्यकर्ता और समर्थक बीजेपी को हराने के लिए बंगाल और असम में साथ मिलकर काम कर सके।

बताते चलें कि आरजेडी की कमिटी जिस बदरुद्दीन अजमल से मुलाकात कर असम में अपने लिए जमीन तैयार करने की पहल कर रही है वो बदरुद्दीन अजमल असम यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के मुखिया हैं। इन्होंने 3 अक्टूबर 2005 को पार्टी की स्थापना की थी इस पार्टी का मुख्यालय गुवाहाटी में है। फिलहाल एआईयूडीएफ असम में मुख्य विपक्षी पार्टी है।  2016 के विधानसभा चुनाव में इस पार्टी ने 13 सीटें जीती थीं। असम में उन्हें 13% मत मिले थे। फिलहाल लालू प्रसाद यादव की पार्टी वहां पर इनसे बात करके एक नया गठबंधन बनाने की फिराक में है।