केरल पुलिस ने गुरुवार को असम के एक कथित शिकारी को गिरफ्तार किया, जिसके खिलाफ लुप्तप्राय प्रजाति एक सींग वाले गैंडे के शिकार के संबंध में लुकआउट नोटिस जारी किया गया था।

आरोपी की पहचान असम के विश्वनाथ जिले के मूल निवासी 26 वर्षीय अस्मत अली के रूप में हुई है। उसे मलप्पुरम जिले के नीलांबुर से पकड़ा गया था, जहां वह पूर्वोत्तर राज्यों के प्रवासी श्रमिकों के साथ रहता था। असम पुलिस ने इस महीने की शुरुआत में अली की गिरफ्तारी के लिए सूचना देने वाले को दो लाख रुपये के नकद पुरस्कार की घोषणा की थी।

नीलांबुर स्टेशन हाउस ऑफिसर पी विष्णु ने कहा कि अली के खिलाफ लुक लाउट नोटिस जारी होने के बाद वह केरल में छिप गया था। वह मोस्ट वांटेड की सूची में शिकारियों में से एक है। गौरतलब है कि इससे पहले असम पुलिस ने विशवनाथ चिरैली जिले से पांच संदिग्ध गैंडा शिकारियों को गैंडे के सींग के साथ गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार किये गए लोगों की पहचान जमीर अहमद, हामिद शेख, असलम शेख, घनश्याम गुप्ता तथा मंटू चामुआह के रुप में की गयी थी। पुलिस को शक था कि यह सींग उस गैंडा की हो सकती है जिसकी हाल ही में काजीरंगा के कोहोरा रैंज में शिकार हुआ था। पुलिस ने सींग को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है ताकि सींग असली है या नकली इसका पता लगाया जा सके। उल्लेखनीय है कि जनवरी में शिकार किए गए गैंडे के मामले में असम पुलिस ने तीन संदिग्धों के खिलाफ वारंट जारी की थी तथा उन्हें पकड़वाने वालों को 11 लाख रुपये ईनाम देने की घोषणा की थी।