टाटा ट्रस्ट के अध्यक्ष रतन टाटा (Tata Trusts Chairman Ratan Tata) को राज्य के सर्वोच्च नागरिक सम्मान असम बैभव (Assam Baibhav) से सम्मानित किया गया है। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) ने मुंबई के ताज वेलिंगटन म्यूज में आयोजितक एक कार्यक्रम में टाटा को असम बैभव पुरस्कार दिया। बता दें कि टाटा ने असम में कैंसर देखभाल को आगे बढ़ाने में असाधारण योगदान दिया है। असम बैभव पुरस्कार में एक प्रशस्ति पत्र, एक पदक और 5 लाख नकद दिए जाते हैं।

सरमा ने कहा कि टाटा ट्रस्ट के अध्यक्ष रतन नवल टाटा (Ratan Naval Tata) को मुंबई में हमारे राज्य के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार असम बैभव से सम्मानित करने का सौभाग्य मिला। दूरदर्शी उद्योगपति और परोपकारी व्यक्ति ने असम में कैंसर (cancer care in Assam) की देखभाल को आगे बढ़ाने में असाधारण योगदान दिया है। बता दें कि व्यक्तिगत कारणों स टाटा 24 जनवरी को गुवाहाटी में आधिकारिक पुरस्कार समारोह में शामिल नहीं हो सके, जब राज्यपाल जगदीश मुखी ने विभिन्न क्षेत्रों की 18 अन्य हस्तियों को राज्य के तीन सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों से सम्मानित किया।

इससे पहले रतन टाटा ने मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) को एक पत्र के जरिए पुरस्कार देने के लिए आभार जताया था। उन्होंने कहा था कि वे मुख्यमंत्री सरमा से मिलना और  उनके साथ काम करना चाहते हैं। उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री से सम्मान पाना एक असाधारण बात है। उन्होंने  समारोह में पुरस्कार प्राप्त करने में उनकी अक्षमता को समझने के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया और बाद में तय की जाने वाली उपयुक्त तिथि पर मुंबई में पुरस्कार प्रदान करने की इच्छा के लिए भी उन्हें धन्यवाद दिया। रतन नवल टाटा एक प्रसिद्ध भारतीय उद्योगपति और एक परोपकारी व्यक्ति हैं जो टाटा समूह के धर्मार्थ ट्रस्टों के प्रमुख के रूप में कार्यरत हैं।