भारत देश में प्रतिष्ठित पद्म श्री (Padma Shri) पुरस्कार के लिए पूर्वोत्तर की छह विशिष्ट हस्तियों का चयन किया गया है। गृह मंत्रालय के प्रेस नोट के मुताबिक, असम, मणिपुर, नागालैंड और सिक्किम के इन हस्तियों को पद्म श्री पुरस्कार से नवाजा जाएगा। बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और कम्युनिस्ट दिग्गज बुद्धदेव भट्टाचार्य 17 पद्म भूषण प्राप्तकर्ताओं में से थे।
पूर्वोत्तर राज्यों में पद्म श्री (Padma Shri) प्राप्तकर्ता-

1. असम से - शकुंतला चौधरी को सामाजिक कार्यों में उनके योगदान के लिए
          - धनेश्वर एंगती को साहित्य में उनके योगदान के लिए

2. मणिपुर से - लौरेम्बम बिनो देवी को कला के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए
            - मुक्तमणि देवी को व्यापार में उनके योगदान के लिए

3. नागालैंड से - टी सेनका आओ को कला के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए

4. सिक्किम से - खांडू वांगचुक भूटिया को को कला के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए पद्म श्री पुरस्कार मिलेगा।
उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, पूर्व चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत, शास्त्रीय गायिका प्रभा अत्रे और गीता प्रेस के संस्थापक राधेश्याम खेमका को दूसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण के लिए चुना गया था।

 
पद्म पुरस्कार (Padma Shri)-

देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक, तीन श्रेणियों में सम्मानित किया जाता है, अर्थात् पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री। असाधारण और विशिष्ट सेवा के लिए 'पद्म विभूषण' प्रदान किया जाता है; उच्च कोटि की विशिष्ट सेवा के लिए 'पद्म भूषण' और किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट सेवा के लिए 'पद्म श्री'। पुरस्कारों की घोषणा हर साल गणतंत्र दिवस के अवसर पर की जाती है।
प्रेस नोट में कहा गया है कि इस वर्ष राष्ट्रपति ने 128 पद्म पुरस्कारों को प्रदान करने की मंजूरी दी है, जिसमें 2 युगल मामले (एक युगल मामले में, पुरस्कार को एक के रूप में गिना जाता है) शामिल है। इस सूची में 4 पद्म विभूषण, 17 पद्म भूषण और 107 पद्म श्री पुरस्कार शामिल हैं। पुरस्कार पाने वालों में 34 महिलाएं हैं और सूची में विदेशियों/NRI/PIO/OCI और 13 मरणोपरांत पुरस्कार विजेताओं की श्रेणी के 10 व्यक्ति भी शामिल हैं।