'हर घर तिरंगा' अभियान के तहत पूर्वोत्तर राज्य असम में अब तक करीब 53 लाख से अधिक राष्ट्रीय ध्वज की ब्रिकी हो चुकी है। इस अभियान के तहत देश भर में निजी और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर तिरंगा फहराया जाएगा। असम राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (एएसआरएलएम) के तहत स्थानीय स्तर पर तैयार किए गए 33 लाख तिरंगे बेचे गए हैं, जबकि अन्य 20 लाख उचित मूल्य की दुकानों के माध्यम से बेचे गए हैं। ऐसे में अब तक असम में 16.07 करोड़ रुपये से अधिक के राष्ट्रीय ध्वजों की बिक्री हो चुकी है। 

ये भी पढ़ेंः खुशखबरीः असम सरकार ने चाय बागान श्रमिकों के दैनिक वेतन में की इतने रुपए की बढ़ोत्तरी


बता दें कि राज्य सरकार ने राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के तहत 13 से 15 अगस्त तक शैक्षणिक संस्थानों सहित आवासों, सरकारी और निजी प्रतिष्ठानों में 80 लाख राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्य रखा था। मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि राज्य में 'हर घर तिरंगा' अभियान जोरों पर है। उन्होंने कहा कि मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि हमारे राज्य में अब तक 53 लाख से अधिक तिरंगे बेचे जा चुके हैं। सरमा ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस और अभियान से पहले राज्य में अब तक 16.07 करोड़ रुपये से अधिक के राष्ट्रीय झंडे बेचे जा चुके हैं।

ये भी पढ़ेंः असम में चल रहा हिन्दू संगठन का प्रशिक्षण शिविर, छोटे हथियारों से लड़ना सीखा रहा


एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि एएसआरएलएम के तहत स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाए गए 32,58,134 राष्ट्रीय ध्वज मंगलवार तक राज्य भर में बेचे गए हैं। इस बिक्री से प्राप्त कुल राशि 12.47 करोड़ रुपये है। एसएचजी के 23,000 से अधिक सदस्यों ने कुल 35,95,167 झंडे तैयार कर दिए हैं। स्थानीय उत्पादन के अलावा राज्य सरकार ने संस्कृति मंत्रालय से 50 लाख झंडों की आवश्यकता रखी थी। राज्य सरकार को अब तक 39.26 लाख झंडे मिल चुके हैं। राज्य सरकार ने खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामलों के विभाग को इन झंडों को राज्य भर में 34,000 उचित मूल्य की दुकानों पर उपलब्ध कराने का काम सौंपा है। विज्ञप्ति में कहा गया है कि उचित मूल्य की दुकानें एनएफएसए लाभार्थियों को 18 रुपए का एक झंडा दिया जा रहा है। इन दुकानों पर अब तक 3.60 करोड़ रुपये मूल्य के लगभग 20 लाख झंडे बेचे जा चुके हैं। 

मुख्यमंत्री सरमा ने पहले कहा था कि सरकार तिरंगा मुफ्त देने से परहेज कर रही है क्योंकि वह कार्यक्रम में अधिक से अधिक लोगों की भागीदारी चाहती है और इसे एक जन आंदोलन में बदलना चाहती है। उन्होंने यह भी कहा था कि राज्य की 'ओरुनुदोई' योजना के 22 लाख लाभार्थी, जिसके तहत सरकार आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों के बैंक खातों में 1,000 रुपये मासिक प्रदान करती है, उन्हें अगले महीने तिरंगा खरीदने के लिए अतिरिक्त 18 रुपये प्राप्त होंगे। राज्य सरकार ने 'हर घर तिरंगा' कार्यक्रम के बारे में अधिक जागरूकता पैदा करने के लिए 31 जुलाई को एक थीम गीत और वीडियो भी जारी किया गया था।