असम विधानसभा चुनावों के दूसरे चरण के लिए शुक्रवार को अधिसूचना जारी कर दी गई। इस चरण में एक अप्रैल को 39 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा। आधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक, इस चरण के लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 12 मार्च है और 15 मार्च को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी। नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 17 मार्च है। वहीं राज्‍य में सियासी सरगर्मी बढ़ गई है और वार-पलटवार तेज हो गया है। नवगठित असम जातीय परिषद (एजेपी) ने पहले चरण के चुनावों के लिए अपने 18 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा भी कर दी है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की सफल असम यात्रा के बाद पार्टी की प्रदेश इकाई ने आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर उनके एक और दौर के प्रचार अभियान की मांग की है। प्रियंका की हालिया असम यात्रा के दौरान चाय बागानों की महिला श्रमिकों के साथ उनकी मुलाकात की काफी चर्चा हुई है। सूत्रों के मुताबिक, प्रियंका ने अपने सहयोगियों को असम के अपने दूसरे दौरे की तारीखों को अंतिम रूप देने के लिए कह दिया है।

भारतीय जनता पार्टी ने शुक्रवार को असम विधानसभा चुनाव के लिए अपने 70 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी। पार्टी ने कहा है कि उसके सहयोगी दल असम गण परिषद (एजीपी) और यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल) क्रमश: 26 और आठ सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। यही नहीं सीएम सर्बानंद सोनोवाल और मंत्री हेमंत विश्व सरमा अपनी मौजूदा सीट से ही चुनाव लड़ेंगे। 126 सदस्यीय असम विधानसभा के लिए तीन चरणों में चुनाव कराए जा रहे हैं।

नवगठित असम जातीय परिषद (एजेपी) ने शुक्रवार को पहले चरण के चुनावों के लिए अपने 18 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कर दी। परिषद के अध्यक्ष लुरिनज्योति गोगोई आयल टाउन दुलियाजान से चुनाव लड़ेंगे। वहीं, एजेपी महासचिव जगदीश भुयन सादिया से चुनाव लड़ेंगे। पार्टी का सहयोगी रायजोर दल अभी भी नामांकन को लेकर बातचीत कर रहा है और वह शनिवार को अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर सकता है।

आल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआइयूडीएफ) के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल ने शुक्रवार को कहा कि उनके गठबंधन का सिर्फ एक ही लक्ष्य है, आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा का नुकसान सुनिश्चित करना। उन्होंने कहा, 'हमारे गठबंधन में सीट बंटवारा कोई मुद्दा नहीं है। हमारा एक सूत्रीय कार्यक्रम है, एक ही लक्ष्य है कि असम से भाजपा की विदाई। हम बलिदान के मूड से काम कर रहे हैं।' उन्‍होंने यह भी दावा किया कि 24 घंटे के भीतर महागठबंधन के सीट बंटवारे का समझौता और विवरण सार्वजनिक कर दिया जाएगा।'

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा पर निशाना साधते हुए असम भाजपा के अध्यक्ष रंजीत दास ने शुक्रवार को कहा कि चाय बागानों में काम करने वाली महिलाएं भाजपा सरकार की योजनाओं के लिए मतदान करेंगी न कि चुनाव से पहले स्टंट के लिए। उन्होंने कहा, 'हमारे कार्यकाल में गर्भवती महिलाओं को उनके बैंक खातों में 12 हजार रुपये मिलेंगे और उन्हें छह महीने का मातृत्व अवकाश भी मिलेगा। इसलिए वे मतदान करते वक्त प्रियंका गांधी द्वारा चाय की पत्तियों का तोड़ा जाना देखेंगी या 12 हजार रुपये देखेंगी? वे अपने खातों में मिलने वाले पांच हजार रुपये देखेंगी या प्रियंका गांधी द्वारा तोड़ी गई पांच पत्तियां देखेंगी।'