असम सरकार ने सोमवार को उन जिलों में कक्षा 6 से 8 के छात्रों के लिए स्कूलों को बंद करने का आदेश दे दिया, जहां कोरोना संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 100 के आंकड़े को पार कर गई है। इससे पहले, सरकार ने कहा था कि कक्षा पांच तक के लोअर प्राइमरी (एलपी) स्कूल उन जिलों में बंद कर दिए जाएंगे जहां सक्रिय मामलों ने एक सौ का आंकड़ा पार कर लिया है। ऑफिशियल नोटिफिकेशन में कहा गया है कि इन जिलों में स्कूल 8 मई तक बंद रहेंगे और स्टूडेंट्स को ऑफ़लाइन कक्षाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (जीएमसीएच) से एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, असम के शिक्षा मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि चिरांग, बिश्वनाथ, बस्का, माजुली, दीमा हसाओ, चराइदेव, हयाकंडी, दक्षिण सलमारा और पश्चिम कार्बी आंगलोंग को छोड़कर अन्य जिलों में कोरोना संक्रमण के मामले 100 का आंकड़ा पार कर चुके हैं। बाकी जिलों में भी स्कूल पूरी तरह से बंद कर दिए गए हैं।

इससे पहले, असम सरकार ने कोविड-19 दिशा-निर्देश जारी किए थे, जिसके अनुसार राज्य के सभी शैक्षणिक संस्थान जिनमें स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय शामिल हैं, उनमें स्टूडेंट्स को गाइडलाइन्स के मुताबिक क्वालिटी वर्चुअल एजुकेशन प्रदान की जाएगी। वहीं सरकार ने कहा था कि कक्षा 6 और उससे ऊपर के छात्रों के लिए फिजिकल क्लासेस को 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ अनुमति दी जाएगी और स्कूलों को निर्देशित किया गया था कि स्टूडेंट्स के प्रवेश के समय और निकास द्वार पर भीड़ नहीं होनी चाहिए।

वहीं सरमा ने कहा कि जिन डिस्ट्रिक्ट्स में कोरोना संक्रमण के 100 एक्टिव केस हैं वहां कक्षा नौ और उससे ऊपर की कक्षाओं के लिए क्लासरूम टिचिंग 50 प्रतिशत स्टूडेंट्स की उपस्थिति के साथ जारी रहेगा। वहीं मंत्री ने पहले कहा था कि गुवाहटी में अगर सक्रिय मामलों की संख्या 1 हजार का आकंड़ा पार कर जाती है तो कैमरूप मेट्रो डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन और हॉस्टल को बंद करने का फैसला ले सकती है।