असम सरकार ने कोरोना वायरस के मद्देनजर राज्य में स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोगों के शामिल होने पर रोक लगा दी और कहा कि छात्र पारंपरिक मार्च में हिस्सा नहीं लेंगे।

आयुक्त और सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव एम अंगमुथू की ओर से जारी एक आदेश में कहा गया है कि राज्य स्तर पर मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल 15 अगस्त सुबह नौ बजे यहां राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे। इसके बाद राष्ट्रगान होगा तथा वह भाषण देंगे।आदेश के मुताबिक, गार्ड ऑफ ऑनर होगा तथा पुलिस, अर्द्ध सैनिक बल और होम गार्ड के कर्मी मार्च करेंगे। 

आदेश के मुताबिक, स्कूल, कॉलेज के छात्र, राष्ट्रीय कैडिट कोर (एनसीसी) और स्काउट एवं गाइड्स के सदस्य रस्मी मार्च में हिस्सा नहीं लेंगे। आदेश में कहा गया है कि कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोगों के जुटने से बचना चाहिए तथा महामारी के कारण जारी स्वास्थ्य प्रॉटोकॉल को ध्यान में रखते हुए समारोह के लिए सीमित संख्या में निमंत्रण दिए जाएं और अतिथि समारोह स्थल पर बैठने की क्षमता से एक तिहाई से ज्यादा न हों। उसमें कहा गया है कि इस बार कोई सांस्कृतिक कार्यक्रम, खेल या पुरस्कार वितरण समारोह नहीं होगा।