असम के गोलपाड़ा नागरिक अस्पताल में भीषण आग लग गई। आग अस्पताल की बाल चिकित्सा ICU इकाई में लगी, जहां कई नवजात शिशुओं की देखभाल की जा रही थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब आग लगी, तब ICU यूनिट में 14 शिशु और कई स्टाफ मेंबर और मरीजों के परिजन मौजूद थे।
दमकल (Firefighters) की गाड़ियां मौके पर पहुंची और आग को और फैलने से पहले ही बुझा दिया। माना जा रहा है कि आग बिजली के शॉर्ट सर्किट से लगी है। फिलहाल सभी बच्चों को दूसरे वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। इस बीच, गोलपाड़ा के जिला उपायुक्त मीनाक्षी दास नाथ ने अस्पताल पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया।

इस महीने की शुरुआत में, डिब्रूगढ़ में असम मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (AMCH) के बाल रोग वार्ड की एक प्रोत्साहन देखभाल इकाई (ICU) में आग लग गई, जिसमें 12 बच्चे भर्ती थे। वार्ड में कुल 12 बच्चे थे, जिनकी उम्र छह महीने से 10 साल के बीच थी। अधिकारी ने कहा कि कोई भी घायल नहीं हुआ।
AMCH के अधीक्षक प्रशांत दिहिंगिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा, "हमने असम सरकार से स्वतंत्र रूप से जांच करने का भी अनुरोध किया है। ये सच्चाई सामने लाएंगे।"

आधिकारिक तौर पर कहा गया है कि बाल चिकित्सा वार्ड में एक वेंटिलेटर मॉनिटर में आग लग गई, जिसे कर्मचारियों ने कमरे में रखे अग्निशामक यंत्र (Firefighters) से नियंत्रित किया। सूत्रों के मुताबिक, घटना के बाद अस्पताल ने एहतियात के तौर पर सभी मरीजों को कैंपस के दूसरे पीडियाट्रिक वार्ड में भेज दिया.
प्रभावित वार्ड में छह वेंटिलेटर हैं, जिनमें से दो PM-CARES फंड से आए हैं। सूत्रों ने कहा कि PM-CARES वेंटिलेटर में से एक में आग लग गई थी।