असम के कामरूप मेट्रोपोलिटन जिले में शनिवार को मादक पदार्थ, सोना और नकदी के साथ गिरफ्तार किया गया व्यक्ति एक कांस्टेबल का आग्नेयास्त्र कथित तौर पर छीनकर भागने का प्रयास करने के दौरान मुठभेड़ में गंभीर रूप से घायल हो गया। एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि घटना उस समय हुई जब शुक्रवार को गिरफ्तार किए गए आरोपी व्यक्ति को भरलुमुख थाने के कर्मी उसके साथियों का पता लगाने के लिए अजारा थाना क्षेत्र के मटिया ले जा रहे थे। अधिकारी ने कहा कि आरोपी ने एक कांस्टेबल की कार्बाइन छीनकर उसे घायल करने के बाद भागने की कोशिश की। इसी दौरान पुलिसकर्मियों ने उस व्यक्ति के पैर में गोली मार दी, जिससे वह घायल हो गया। उन्होंने कहा कि आरोपी का गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में इलाज चल रहा है, जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है, जबकि कांस्टेबल को अजारा ग्रामीण अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इस घटना के साथ, 10 मई को हिमंत बिस्व सरमा के नेतृत्व वाली सरकार के कार्यभार संभालने के बाद से असम में हिरासत से भागने का प्रयास करते हुए पुलिस मुठभेड़ों में 31 गिरफ्तार लोग घायल हुए हैं और 15 लोग मारे गए। बेरोकटोक पुलिस मुठभेड़ों के कारण विपक्ष और नागरिक संस्थाओं के एक धड़े ने राज्य में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत सरकार के तहत पुलिस पर ‘‘खुली हत्याओं’’ में शामिल होने का आरोप लगाया है। मुख्यमंत्री ने पूर्व में कहा था कि अपराधियों से मुकाबले के लिए पुलिस को कानून के दायरे में ‘‘पूरी आजादी’’ दी गई है।

असम मानवाधिकार आयोग (एएचआरसी) ने मुठभेड़ों का स्वत: संज्ञान लिया है और सात जुलाई को राज्य सरकार से उन परिस्थितियों की जांच करने को कहा जिनके कारण पिछले दो महीनों में पुलिस मुठभेड़ों में आरोपी हताहत हुए हैं।