असम में ड्रग तस्करी को लेकर पुलिस ने छापेमारी की। इसके तहत 450 से अधिक लोगों को पकड़ा गया है। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिश्व शर्मा के आदेश पर यह कार्रवाई की गई। उन्होंने 10 मई को मुख्यमंत्री का पद संभाला था। पुलिस ने 264 मामले दर्ज किए और 10 मई से 31 मई के बीच 441 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

हाल में ही मुख्यमंत्री ने कहा था कि राज्य सरकार का मकसद ड्रग मुक्त समाज बनाना है और असम पुलिस ड्रग तस्करी के खिलाफ कड़ा एक्शन ले रही है। पिछले माह से राज्य की पुलिस व्यापक तौर पर अवैध ड्रग के व्यापार के खिलाफ अभियान च ला रही है। बता दें कि अब तक 6.57 kg हेरोइन, 5,785.85 kg गांजा, 92,366 Yaba व अन्य गोलियां (tablets) जब्त की गई हैं। इसके साथ पुलिस ने 17,11,130 रुपये भी बरामद किए।

मुख्यमंत्री ने मंगलवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी थी कि प्रदेश में ड्रग्स तस्करों के खिलाफ अभियान चलाई जा रही है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर राज्य की पुलिस विभिन्न जिलों में पूरी तरह सक्रिय है।

बता दें कि असम के धुबरी में तैनात एक पुलिस उपाधीक्षक जतिन दास को मादक पदार्थ के तस्करों के साथ संबंध होने के आरोप में बीते सोमवार को गिरफ्तार किया गया। पुलिस का कहना है कि दास का संबंध मादक पदार्थ के तस्करों के साथ था। इसी रविवार को राज्य भर से ड्रग तस्करी के 20 मामले सामने आए। इसमें 35 लोगों की गिरफ्तारी हुई और इसके पास से 469 ग्राम हेरोइन, 574 किलो गांजा और करीब 1500 साइकोट्रोपिक टैबलेट के साथ 20 हजार रुपये नकद जब्त किए गए।