दुलियाजान । शंकर ज्योति बरुवा आसू के नए केंद्रीय महासचिव होंगे। वे लुरिन ज्योति गोगोई का स्थान लेंगे। वहीं अध्यक्ष पद हेतु दीपांक कुमार नाथ को लगातार दूसरी बार मौका दिया गया है। दुलियाजान के सलाकटकी सार्वजनिक खेलपथार में आयोजित केंद्रीय अधिवेशन के अंतिम दिन कल  रात हंगामेदार प्रतिनिधि सभा में संगठन की नई टीम की घोषणा की गई। 

आसू के अध्यक्ष दीपांक कुमार नाथ की अध्यक्षता में आयोजित प्रतिनधि सभा में सर्वसम्मति से आसू की केंद्रीय समिति के अध्यक्ष के रूप में दीपक  कुमार नाथ, उपाध्यक्ष बिपुल राभा,  प्रकाश चन्द्र दास, मानिक गोगोई,   नवज्योति राय और उदिप्त ज्योति गोगोई, महासचिव शंकर ज्योति बरुवा, संयुक्त सचिव धर्मेश्वर दास, जयंत कुमार भट॒टाचार्य, जूल खाउंड, प्रज्ञान भुयां और उत्पल शर्मा, कार्यालय सचिव समुद्र पाटगिरी, मुख्य सांगठनिक सचिव अभिवर्तन गोस्वामी, सांगठनिंक सचिव नितुल बोरा, पुलक बोरा, नव कुमार नाथ, बिटूपन दास, सूर्ज्य कुमार भुयां, मंटूराज बरवा, अमजद हुसैन लस्कर, अपूर्व दास, निरण्य राय, लव कुमार राय कृष्ण कांत दास और आहिनुल हक चौधरी, शिक्षा सचिव भवज्योति बेजबरुवा, प्रचार सचिव जीतूमणि भुयां, वित्त सचिव फनिंद्र राजवंशी, सांस्कृतिक सचिव विनय दुबे, सूचना सचिव मृदुल हाजरिका, साहित्य सचिव परिस्मिता बोरा और क्रीड़ा सचिव के रूप में पूर्ण डेका और बेदांत सइकिया का चयन कर 60 सदस्यीस केंद्रीय समिति का गठन किया गया वहीं डॉ. समुज्ज्वल कुमार भट्टाचार्य के मुख्य सलाहकार पद पर बने रहने पर संशय बरकरार है। 

ज्ञात हो कि डॉ. भट्टाचार्य के इस अधिवेशन में आसू छोड़ने की घोषणा के बाद प्रतिनिधि सभा में उपस्थित सभी प्रतिनिधियों ने उन्हें पुनः मुख्य सलाहकार बने रहने का आह्वान किया था। इसके बाद डॉ. भट्टाचार्य ने अपने विवेक और अंतर्रात्मा की आवाज सुन कर बाद में अपने फैसले को सार्वजिक करने की घोषणा की है। उधर वर्तमान सचिव लुरिन ज्योति गोगोई ने कल रात महासचिव पद और आस से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने सक्रिय राजनीति में उतरकर चुनाव लड़ने का संकेत दिया है।