असम के गुवाहाटी में ट्रांसजेंडर और बेसहारा लोगों को एक स्थानीय एनजीओ से तालाबंदी के दौरान बहुत जरूरी मदद मिली है, जिसने शहर में रहने वाले लगभग 150 ऐसे लोगों को सूखा राशन उपलब्ध कराया है। बनश्री गोस्वामी ने कहा कि “वर्तमान लॉकडाउन स्थिति के दौरान, ट्रांसजेंडरों ने आजीविका कमाने की सभी संभावनाएं खो दी हैं। इसलिए हम यथासंभव उनकी मदद करने की कोशिश कर रहे हैं। हम लगभग 150 ट्रांसजेंडर और बैगर्स को सूखा राशन प्रदान कर रहे हैं  ”।


संगठन के एक पदाधिकारी ईशानु कलिता ने कहा कि जिन्होंने गुवाहाटी में ट्रांसजेंडर और हाशिए के लोगों की मदद करने के लिए एक गैर-लाभकारी संगठन, परिचय फाउंडेशन की स्थापना की है। सामाजिक बहिष्कार और वर्जनाओं के कारण लॉकडाउन अवधि के दौरान भी गुवाहाटी में ट्रांसजेंडर समुदाय के सदस्यों को अलग-थलग छोड़ दिया गया है।

ईशानु कलिता ने बताया कि वर्तमान लॉकडाउन की स्थिति में, वे भीख मांगने या ऐसे अन्य काम में शामिल नहीं हो सकते हैं। नतीजतन, उन्हें अकथनीय कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है। इसलिए, हमने उनकी मदद करने की पेशकश करने का फैसला किया है। फाउंडेशन ने गुवाहाटी के गणेशगुड़ी इलाके में उन्हें सूखे राशन के पैकेट बांटे हैं।