असम में कोरोना का फिलहाल कोई मामला सामने नहीं आया है लेकिन बताया जा रहा कि प्रवासियों को अगर सरकार राज्य में जगह देती है तो संकट गहरा सकता है। वैसे सरकार ने पुख्ता इंतजामात किए हैं लेकिन माना जा रहा है कि ये इंतजाम करने के बाद भी कोरोना का प्रकोप राज्य में बढ़ सकता है। तो सरकार को बहुत ज्यादा सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

वैसे तो 4 मई से विस्तारित तालाबंदी की योजना की घोषणा हो चुकी है। जिसमें ज्यादातर केंद्रीय दिशानिर्देशों के अनुरूप है इसी के साथ कर्फ्यू की अवधि के संदर्भ में एक बड़ा बदलाव किया गया है। सरकार ने कर्फ्यू शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक कर दिया है। स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने जानकारी दी कि ग्रीन जोन जिलों में आर्थिक गतिविधियां बढ़ेंगी।
कर्फ्यू की अवधि शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक की प्रवासी मजदूर यात्रा कर राज्य में प्रवेश कर सकते हैं। इसी के साथ रात्रि में राज्य में प्रवेश करने पर कार्यवाही कर सकते हैं। कल से बीएसटी बसों को प्रवासियों का लाने के लिए लगाया जा सकता है जिसमें सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा।