कोरोना वायरस कहर के बीच में असम में अफ्रिकी स्वाइन फ्लू ने दस्तक दे दी है। इसके लिए मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने पशुचिकित्सा और वन विभागों को अफ्रीकी सुअर स्वाइन बुखार से राज्य की सुअर आबादी को बचाने के लिए एक योजना बनाने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के राष्ट्रीय सुअर अनुसंधान केंद्र के साथ काम करने के लिए आदेश जारी किया है।


बता दें कि असम ने पिछले सप्ताह देश में इस बीमारी के पहले फैलने की सूचना दी। सोनोवाल ने प्रबंधन संस्थान का दौरा करते हुए, सूअर के बुखार के प्रसार की तीव्रता और समस्या को कम करने की रणनीतियों पर विस्तार से चर्चा की है। उन्होंने डॉक्टरों और अन्य पदाधिकारियों को उन क्षेत्रों की कुल सफाई और स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए कहा हैं।



उन्होंने कहा कि संक्रमण से निपटने के लिए टीकों की अनुपस्थिति में, स्वच्छता, दूर और रोकथाम का पालन करने के लिए सबसे अच्छे प्रोटोकॉल है। असम में स्वाइन बुखार के प्रकोप के बाद, एक विशेषज्ञ टीम का गठन किया गया था जो इस हमले से सूअर पालन उद्योग को बचाने के लिए वायरस के प्रसार को नियंत्रित के लिए काम करेंगी।