असम का काजीरंगा पार्क आज से फिर पर्यटकों के लिए खुल गया है। बता दें कि कोरोना संक्रमण के चलते पार्क को लंबे समय से बंद किया हुआ था। आज खोले गए पार्क में जाने के लिए कुछ प्रतिबंध भी लगाए हैं। काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व  के निदेशक ने बताया कि फिर से पार्क को खोलने के लिए हमने सभी आवश्यक व्यवस्थाएं की है। उन्होंने बताया कि इस साल सामान्य नियमों के साथ हम कोरोना संबंधित प्रोटोकॉल को भी लागू करेंगे। वहीं हाथी सवारी शुरु करने की तिथि भी उन्होंने बताई है। उन्होंने बताया कि पयर्टक अब 1 नवंबर से हाथी की सवारी कर सकेंगे। 

बता दें कि कोरोना के चलते पिछले 7 महीन से यह पार्क बंद था। आज से खुलने वाले इस पार्क के लिए मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और राज्य के वन मंत्री परिमल सुखाबैद्य पार्क के उद्घाटन समारोह में शामिल होंगे। हाथी की सवारी के अलावा जीप सफारी की भी अनुमित मिल गई है, लेकिन यह केवल काजीरंगा रेंज, कोहोरा,  और बागोरी पर्यटकों के लिए होगी। इसका कारण काजीरंगा नेशनल पार्क के अंदर खराब मौसम और सड़क की स्थिति बताया गया है। 

इसके साथ ही नेशनल पार्क में और नए पांच पर्यटन स्थलों को जोड़ने की तैयारी चल रही है। बता दें कि इस साल काजीरंगा में 18 सींग वाले गैंडे, 107 हिरण, 6 जंगली भैस समेति 153 जानवर मारे जाने की रिपोर्ट मीडिया पर चली थी। 

बता दें कि 18 जुलाई 2020 को राज्य में आई भीषण बाढ़ से प्रभावित हुए जंगली जानवरों को बचाने के लिए अब केंद्र सरकार भी आगे आई थी। इस दौरान केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी काजीरंगा राष्ट्रीय पार्क के बारे में कुछ जानकारी साझा की थी। इसमें उन्होंने काजीरंगा में 121 जानवरों को बचाने में सफल रहने पर खुशी जताई हैं थी। उन्होंने ट्वीट करते हुए नरेंद्र मोदी सरकार की भी सराहना की और कहा कि हम कीमती वन्यजीवों को बचाने के लिए और अधिक निर्माण कर रहे हैं।