गुवाहाटी। असम के पूर्व मंत्री अताउर्रहमान मजारभुइया ने मुस्लिम समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए आरोप में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की निलंबित नेता नुपूर शर्मा और नवीन कुमार जिंदल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। प्राथमिकी कटिगोरा थाने में दर्ज कराई गई है। पूर्व विधायक ने पुलिस से इन राजनेताओं के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की कड़ी धाराओं के तहत मामला दर्ज करने को कहा है। 

ये भी पढ़ेंः क्या है सरकार की Agneepath Scheme, जानिए अर्धसैनिक बलों और असम राइफल्स में नौकरी की गुप्त जानकारी


मजारभुइया ने कहा, 'इन दो लोगों ने समाज के एक समुदाय विशेष की भावनाओं को जानबूझकर आहत किया है। देश के मौजूदा कानून के आधार पर इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।' उल्लेखनीय है कि हाल ही में एक नेशनल टेलीविजन चैनल पर वाद-विवाद के दौरान नुपूर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित अपमानजनक टिप्पणी की थी, जिसके बाद उनसे पार्टी की प्राथमिक सदस्यता छिन ली गई। 

ये भी पढ़ेंः कांग्रेस के निशाने पर आई 'अग्निपथ भर्ती योजना', नेता बोले: 18 वर्ष के युवक को भर्ती करेंगे, बंदूक का लाइसेंस थमा कर छोड़ देंगे


इस मुद्दे को लेकर भारत सहित दुनिया के कई मुस्लिम देशों में हिंसा भड़क उठी। असम के कछार जिले में भी अभी कुछ दिनों पहले नुपूर शर्मा के पुतले फूंके गए। माहौल बिगड़ता देख राज्य प्रशासन ने बराक घाटी के सभी जिलों में सीआरपीसी की धारा 144 लागू कर दी थी।