असम के एक पत्रकार पर दो पुलिसकर्मियों (Assam policemen) ने हमला किया क्योंकि पत्रकार ने नियमों पर सवाल करने की हिमाकत कर दी। पत्रकार (Journalist) के सवाल पुलिस अधिकारियों को रास नहीं आए को मिलकर पत्रकार की पिटाई कर दी। पीड़ित पत्रकार की पहचान जयंत देबनाथ (Jayant Debnath) के रूप में हुई है।

इस मुद्दे के बारे में बात करते हुए, देबनाथ ने कहा कि उनकी एकमात्र गलती यह थी कि उन्होंने दो पुलिसकर्मियों (Assam policemen) से सवाल किया कि मोटरसाइकिल पर रहते हुए उनके पास हेलमेट (helmets) क्यों नहीं था। उन्होंने आगे कहा कि "दोनों कांस्टेबल थे और पूछताछ करने पर दोनों ने मुझे गालियां दीं एक बार जब मैंने उन्हें बताया कि मैं एक पत्रकार हूं, तो उन्होंने मुझे और भी अधिक शारीरिक रूप से प्रताड़ित करना शुरू कर दिया।"

घटना रात में हुई होती तो फर्जी मुठभेड़ में गोली मार देते- देबनाथ
देबनाथ ने बताया कि "अगर घटना रात में हुई होती, तो संभावना थी कि उन्होंने मुझे fake encounter में गोली मार दी होगी।" उन्होंने दावा किया कि घटना का एकमात्र कारण यह था कि पुलिस को "सरकार द्वारा फ्रीहैंड" दिया गया था। उन्होंने कहा कि पुलिस उन्हें दी गई शक्ति का दुरुपयोग कर रही है।
पीड़िता ने Assam Government से यह सुनिश्चित करने का भी आग्रह किया कि वे जो नियम बनाते हैं उनका पालन सभी द्वारा किया जाता है जिसमें पुलिस कर्मी भी शामिल हैं। हालांकि चिरांग DSP Laba Deka ने कहा है कि इस मामले में आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें साफ तौर पर देखा जा सकता है कि कैसे पत्रकार को पुलिस ने पीटा और कैसे उसे पुलिस की जीप में बैठाया गया।