असम के मत्स्य मंत्री परिमल शुक्लवैद्य ने रविवार को बताया कि गुवाहाटी स्थित दिगलीपुखुरी (तालाब) के पानी में आक्सीजन की कमी के कारण ही सैकड़ों मछलियों की मौत हुई है। शनिवार रात तालाब में बड़ी संख्या में मछलियां मृत पाई गई थीं। इसके बाद मंत्री ने विभागीय अधिकारियों को मौके पर जाकर मछलियों की मौत के सटीक कारणों का पता लगाने का निर्देश दिया था।

शुक्लवैद्य ने कहा, 'मछलियों की मौत तालाब में आक्सीजन के स्तर में अचानक गिरावट व कार्बनिक भार बढ़ने के कारण हुई। विभागीय अधिकारियों ने जांच के बाद पाया कि उनकी मौत जहर के कारण नहीं, बल्कि पर्यावरणीय वजहों से हुई है।' उन्होंने कहा कि फिलहाल पंपों व नौकाओं के जरिये पानी का बौछार करके तालाब में आक्सीजन के स्तर को बढ़ाया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि दिगलीपुखुरी करीब 500 मीटर लंबा है और गुवाहाटी के अंबारी इलाके में स्थित है। इस तालाब का निर्माण अहोम वंश के शासकों ने ब्रह्मपुत्र नदी की नहर के तौर पर करवाया था। ब्रिटिश शासन के दौरान यह नहर भर दी गई। दिगलीपुखुरी शहर का लोकप्रिय पर्यटक स्थल है।