राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने असम के होजई जिले में अस्पताल में एक डॉक्टर पर कथित हमले का संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार से चार सप्ताह के भीतर कार्रवाई रिपोर्ट देने को कहा है। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। हमले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है जिसमें महिलाओं सहित लोगों का एक समूह डॉक्टर के साथ मारपीट करता दिख रहा है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'हमें घटना के संबंध में दो जून को शिकायत पत्र मिला था और मामले का संज्ञान लेते हुए एनएचआरसी ने असम सरकार से रिपोर्ट मांगी है।' शिकायतकर्ता, अधिवक्ता स्नेहा कलिता ने आरोप लगाया है कि होजई जिले के उदाली मॉडल अस्पताल में कोविड -19 और निमोनिया से पीड़ित एक मरीज की मौत के बाद उसके परिवार के सदस्यों ने डॉ सीयूज कुमार सेनापति पर एक जून को बेरहमी से हमला किया।

उन्होंने आरोप लगाया है कि इस दौरान डॉक्टर, नर्स और अन्य कर्मी जान बचाकर भागने में सफल रहे, लेकिन वे "इस भयावह घटना से बहुत आहत" हैं। अधिकारी ने बताया कि मामले का संज्ञान लेने के बाद एनएचआरसी ने बृहस्पतिवार को कार्रवाई की। एनएचआरसी ने आरोपों की जांच करने के लिए शिकायत की प्रति असम के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को भेजने को कहा। आयोग ने मामले में आवश्यक दंडात्मक कार्रवाई करने तथा चार सप्ताह के अंदर इसकी रिपोर्ट आयोग को भेजने का निर्देश दिया।

आयोग ने शिकायत की एक प्रति केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव को भी भेजने का निर्देश दिया ताकि देश में अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जरूरी उपाय किए जाएं। इस बीच, असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने बुधवार को कहा था कि डॉक्टर के साथ मारपीट मामले में 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इस घटना की सभी राजनीतिक दलों ने निंदा की और सरकार से दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की।