केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह शनिवार से दो दिवसीय असम और मणिपुर के दौरे पर हैं, जहां पर वे दोनों ही उत्तर-पूर्वी राज्यों में नई परियोजनाओं का उद्घाटन करेंगे। इस दौरान वह सांस्कृतिक और पर्यटन केन्द्र के तौर पर बटाद्रव की आधारशिला रखेंगे। इसके साथ ही गुवाहाटी में नए मेडिकल कॉलेज और पूरे असम में नौ लॉ कॉलेजों स्थापित किए जाएंगे।

इसके साथ ही, असम दर्शन प्रोग्राम के अंतर्गत 8 हजार पांरपरिक वैष्णव मठ को वित्तीय ग्रांट का वितरण किया जाएगा। अगले साल असम में होने जा रहे चुनावों को लेकर अमित शाह पार्टी नेताओं के साथ चुनाव की तैयारियों की समीक्षा बैठक भी करेंगे।

असम में सत्तारूढ भाजपा ने 16 सदस्यीय प्रदेश चुनाव समिति गठित करके विधानसभा चुनाव के लिए अपनी चुनाव तैयारी प्रक्रिया शुरू कर दी है। समाचार एजेंसी पीटीपी ने पार्टी सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी। सूत्रों के अनुसार समिति में मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, उत्तर पूर्व लोकतांत्रिक गठबंधन के संयोजक हिमंत विश्व सरमा और प्रदेश अध्यक्ष रंजीत कुमार दास शामिल हैं।

दास ने अलग अलग नोटिसों में कहा कि पार्टी ने दो महत्वपूर्ण समितियां-17 सदस्यीय प्रदेश कोर समिति और पांच सदस्यीय प्रदेश अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति भी बनायी हैं। असम की 126 सदस्यीय विधानसभा के लिए 2021 के मार्च-अप्रैल में चुनाव होने की संभावना है। भाजपा ने सहयोगियों के साथ मिलकर 100 सीटें जीतने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

राज्य में 2016 के विधानसभा चुनाव में खंडित जनादेश आया था और किसी भी दल को इस वर्तमान विधानसभा में पूर्ण बहुमत नहीं मिला था। दास ने बताया कि प्रदेश चुनाव समिति भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा की सहमति के बाद बनायी गयी है।

इस समिति के अन्य सदस्य केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री रामेश्वर तेली, लोकसभा सदस्य और भाजपा महासचिव दिलीप सैकिया, असम के कैबिनेट मंत्री चंद्रमोहन पटवारी, रंजीत दत्ता, परिमल सुक्लावैद्य तथा कई अन्य वरिष्ठ नेता हैं। विधानसभा में फिलहाल भाजपा 60 विधायकों के साथ सबसे बड़ा दल है। उसे 14 विधायकों वाली असम गण परिषद और 12 विधायकों वाले बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट तथा एक निर्दलीय विधायक का समर्थन प्राप्त है।