असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा (Himanta Biswa) ने नगांव में कई परियोजनाओं का उद्घाटन किया है। जिससे उनकी सरकार के काम को राज्य में बहुत सराहा जा रहा है लेकिन इसी दौरान मुख्यमंत्री हिमंता ने ऐसी हरकत कर दी जिसके कारण वह कई आलोचनाओं का सामना कर रहे हैं। दरअसल, उन्होंने कई सैकड़ो लोगों के सामने नागांव के डिप्टी कमिश्नर (deputy commissioner) को यातायात बाधित करने के लिए बहुत ही बुरे तरीके से जलील किया है।  

दरअसल में, असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) के सुरक्षा उपाय के रूप में नगांव जिला और पुलिस प्रशासन ने नगांव कॉलेज के पास वाहनों की आवाजाही को रोक दिया था। पुलिस की यही बात मुख्यमंत्री को अच्छी नहीं लगी। इसी कारण से नगांव डिप्टी कमिश्नर की मुख्यमंत्री ने खिंचाई की और उन्हें तुरंत यातायात शुरू करने का आदेश दिया।

मुख्यमंत्री हिमंता ने DC को कहा कि "डीसी (deputy commissioner) साहब ये क्या नाटक है? वाहनों को क्यों रोका गया है? क्या कोई राजा महाराजा यहां आ रहा है? ऐसा दोबारा नहीं होना चाहिए। लोग पीड़ित हैं। वाहनों को जाने दो ।"
इस घटना पर जैसे ही लोगों ने रोष जताना शुरू किया तो हिमंता ने कहा कि “मैंने अपनी यात्रा के दौरान लोगों को असुविधा न करने के स्पष्ट निर्देश के बावजूद, मेरे लिए यातायात रोकने के लिए संबंधित अधिकारियों को फटकार लगाई। करीब 15 मिनट तक राष्ट्रीय राजमार्ग पर एंबुलेंस समेत जाम लगा रहा। यह VIP संस्कृति (VIP culture) आज के असम में स्वीकार्य नहीं है ”।
इस घटना पर एक फेसबुक यूजर ने कहा कि “मुझे याद है पिछले महीने (दिसंबर में), मैं मालीगांव चरियाली में कैब के लिए खड़ा था। ट्रैफिक पुलिस ने अचानक सड़कों के सभी वाहनों को रोक दिया। करीब 7 मिनट के बाद हमारे सीएम अपनी 10-12 कारों के साथ गुजरे। उस वक्त उन्होंने हमारे कामरूप मेट्रो के डीसी को डांटा नहीं था। फिर आज ऐसा कृत्य क्यों? पी.एस. उन्हें एक IAS के संबंध में बात करनी चाहिए ”।