असम में सेना की गाड़ी खाई में गिरने से हरियाणाा के शाहाबाद जिले का एक जवान शहीद हो गया। आज उसका शव उसके पैतृक रायमाजरा पहुंच रहा जहां राजकीय सम्मान के साथ शहीद को अंतिम विदाई दी जाएगी। गांव के बेटे की शहादत से मातम पसरा हुआ है। दुखी परिजन और ग्रामीणों को अब इस बात की चिंता सता रही है कि गांव में श्मशान स्थल खस्ताहाल है तो बड़ा सवाल ये भी है कि जवान का अंतिम संस्कार कैसे होगा।

गुरजंट के परिवार में पत्नी, दो बच्चे व अन्य सदस्य हैं। गुरजंट के निधन की जानकारी मिलते ही गांव के लोग जवान के घर पहुंचने लगे। पार्थिव शरीर कल रात दिल्ली लाया गया। इसके बाद उनके गांव भेजा गया।

परिजनों के मुताबिक गुरजंट टेक्नीशियन के तौर पर सेना में भर्ती हुए थे और उनकी ट्रेनिंग पुणे में हुई थी। इस समय गुरजेंट सेना में सिपाही के पद पर तैनात थे और जेसीबी को कंट्रोल करते थे। गुरजंट वर्ष 2010-11 में सेना में भर्ती हुए थे। उल्लेखनीय है कि शहीद गुरजेंट सिंह का भाई सतनाम सिंह भी सेना में हवलदार के पद पर तैनात है, जबकि पिता रूलदा राम मेहनत मजदूरी करते हैं।