अब जल्द ही पूर्वोत्तर भारत का राज्य असम चमकने वाला है। क्योंकि यहां केंद्र सरकार की तरफ से अब गति शक्ति योजना को जबरदस्त तरीके से लागू किया जा रहा है। केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप पुरी ने कहा कि पीएम गति शक्ति के माध्यम से पेट्रोलियम, रेलवे, राजमार्ग, उपयोगिताओं जैसे क्षेत्रों की प्रमुख परियोजनाओं के त्वरित और कुशल निष्पादन के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण अपनाया जाएगा। 

यह भी पढ़ें : अरुणाचल में है दुनिया का सबसे ऊंचा प्राकृतिक शिवलिंग, आकार देखकर दंग रह जाते हैं लोग

5 लोग, लोग खड़े हैं, अंदर और वह टेक्स्ट जिसमें 'Gati Shakti PM, Gati kti ter Plan for nnectivity SINGH PURI T hakti RAMESHARTEL Gati hakti Gati hakti Gati hakti hakti' लिखा है की फ़ोटो हो सकती है

पुरी ने यहां पीएम गति शक्ति पर आयोजित पूर्वोत्तर क्षेत्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि यह एक उल्लेखनीय पहल है, क्योंकि इसका उद्देश्य केंद्र और राज्य सरकारों की विभिन्न बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को सुव्यवस्थित और एकीकृत करके भारत में रसद लागत को कम करना है। 

7 लोग और लोग खड़े हैं की फ़ोटो हो सकती है

सरकार परिवहन, रसद और आपूर्ति श्रृंखला, शहरी विकास, बंदरगाहों, उपयोगिताओं और सेवाओं के बीच तालमेल बिठाने में सक्षम होगी, ताकि ईज ऑफ लिविंग और ईज ऑफ डूइंग बिजनेस दोनों में बदलाव लाया जा सके। उन्होंने कहा, 'भारतीय सामान और सेवाएं एक एक्सप्रेस लेन पर चलेंगी और भारतीय उद्योग चीन, ताइवान और दक्षिण कोरिया जैसे विनिर्माण केंद्रों की निर्यात क्षमताओं से मेल खाने में सक्षम होंगे।' 

4 लोग, लोग खड़े हैं, सूट और अंदर की फ़ोटो हो सकती है

यह भी पढ़ें : भूत जोलोकिया मिर्च से बनती है ये अरूणाचली चटनी, खाने वाले हमेशा रखते हैं याद

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'पीएम गति शक्ति मल्टीमॉडल कनेक्टिविटी सुनिश्चित करेगी। उदाहरण के तौर पर पूर्वोत्तर भारत में उगाए गए ताजे फल तेजी से उपभोक्ता बाजारों और खाड़ी देशों की जरूरतों को पूरा करेंगे। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र के औद्योगिक विकास में पेट्रोलियम सेक्टर महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। 

8 लोग और लोग खड़े हैं की फ़ोटो हो सकती है

उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र से तेल के उत्पादन में 2020-21 के 4.11 एमएमटी की तुलना में 67 प्रतिशत की बढ़ोतरी के साथ अगले चार में 6.85 एमएमटी होने के आसार हैं। पुरी ने कहा कि इस क्षेत्र में अन्वेषण का क्षेत्र निकट भविष्य में दोगुना होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि चार वर्षों में कच्चे तेल के उत्पादन में 45 फीसदी और इसी अवधि में गैस उत्पादन में लगभग 90 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है।