असम के गोसाईगांव विधानसभा से चार बार के विधायक मजेंद्र नारजारी का कोरोना के बाद की जटिलताओं की वजह से आज सुबह गुवाहाटी के एक सरकारी अस्पताल में निधन हो गया। बीते दिनों ही वह कोरोना से संक्रमित पाए गए थे। बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ) नेता मजेंद्र ने 68 वर्ष के थे और उनके चार बच्चे हैं। उनके निधन पर मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने दुख जताया है।

बता दें कि नारजारी ने 2006 से असम के कोकराझार जिले के गोसाईगांव निर्वाचन क्षेत्र का चार बार प्रतिनिधित्व किया था और हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में पने निकटतम प्रतिद्वंद्वी यूपीपीएल के सोमनाथ नारजारी को 10,000 से अधिक मतों से हराया था।

स्वास्थ्य मंत्री केशब महंता ने कहा कि नारजारी को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में भर्ती कराया गया था और कॉमरेडिडिटी के कारण उनकी हालत बिगड़ गई थी। महंता ने मंगलवार को अस्पताल का दौरा किया था, जब उनकी हालत बिगड़ गई थी और वह वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे।

नारजारी पहले हाईस्कूल में हेडमास्टर थे और वह कई समाजिक संगठनों से भी जुड़े थे। उनके निधन पर मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने दुख जताया  और कहा कि वह विधायक मजेंद्र नारजारी के निधन की खबर से दुखी हैं। उन्होंने कहा कि एक समाजिक कार्यकर्ता और प्रतिबद्ध राजनीतिज्ञ को हमेशा याद किया जाएगा।