असम के पूर्व वन मंत्री रॉकीबुल हुसैन ने जोरहाट में मीडिया को संबोधित करते हुए बताया है कि कांग्रेस आगामी असम चुनावों में AIUDF के अलावा वाम दलों और अन्य छोटे समान विचारधारा वाले दलों के साथ गठबंधन करने की कोशिश करेगी। इसी के साथ उन्होंने यह भी कहा है कि 2016 में कांग्रेस के कुछ उम्मीदवारों को ऊपरी असम में कुछ हज़ार वोटों से हार का सामना करना पड़ा था।



जिसका मुख्य कारण CPI और CPM उम्मीदवारों ने कुछ वोट हासिल किए और कांग्रेस के उम्मीदवारों को नुकसान पहुंचाया। हुसैन ने आगे मोदी की लहर पर तंज कसते हुए कहा कि  कांग्रेस ने 2016 में 26 सीटों पर जीत दर्ज करके कांग्रेस का अच्छा प्रदर्शन किया। कांग्रेस- AIUDF गठबंधन के बारे में एक सवाल का जवाब देते हुए, जिसमें भाजपा ने आरोप लगाया कि असमिया को अल्पसंख्यक में बदल देंगे।


हुसैन ने कहा कि मेरे भाजपा के एक अच्छे दोस्त हैं जो भाजपा और भाजपा के बीच संबंधों के बारे में बेहतर बता पाएंगे। भाजपा ने नगांव जिला परिषद चुनाव जीतने के लिए AIUDF की मदद ली थी। इस जीत के लिए BJP और AIUDF ने भी दारंग और करीमगंज जिला परिषद चुनाव के दौरान गठबंधन किया था। इसके अलावा, BJP और AIUDF ने दो बार राज्यसभा के लिए एक साझा उम्मीदवार का समर्थन किया है।