असम से लेकर बिहार तक भारी बारिश और नदियों में बढ़ते जलस्तर से जनजीवन अस्त-व्यस्त है। देश के इन दोनों राज्यों में बाढ़ से स्थिति गंभीर बनी हुई है। इसकी वजह से लाखों लोग प्रभावित हुए हैं, जान और माल दोनों का ही नुकसान हुआ है। बिहार में गंडक नदी का जलस्तर बढ़ने से मुजफ्फरपुर में नदी के आसपास के गांवों में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं, लोग अपनी जान बचाने के लिए नेशनल हाइवे-27 पर रहने की मजबूर हो गए हैं।

इस बीच बुधवार को बिहार में राजद नेता तेजस्वी यादव ने मधुबनी जिले के मधेपुर ब्लॉक में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और लोगों के बीच धन वितरित किया। उन्होंने मौजूदा स्थिति के लिए प्रदेश के मुखिया नीतीश कुमार को जिम्मेदार ठहराया और इस्तीफे की मांग की। तेजस्वी ने कहा, 'अगर उनमें थोड़ी सी भी शर्म बची होती तो अब तक इस्तीफा दे दिया होता।'

उन्होंने कहा, 'बिहार बाढ़ में डूब गया और नीतीश जी के आंख के आंसू सूख गए। नीतीश जी यहां नहीं आएंगे लेकिन सात तारीख को अपनी कुर्सी बचाने के लिए वर्चुअल रैली करेंगे। नीतीश कुमार जी की इंसानियत खत्म हो गई है और अंतरात्मा बंगाल की खाड़ी में डूब रही है। लोग मर रहे हैं ऐसे में लोग कहां से वोट करने जाएंगे। लोकतंत्र में लोक नहीं रहेगा तो तंत्र का कोई मतलब नहीं रह जाएगा। आप चाहते हो लोग वोट करें और सीधे श्मशान जाएं। लाशों के ढेर पर हम चुनाव नहीं होने देंगे।