असम में पिछले कईं दिनों से रुक-रुक कर जारी भारी बारिश से राज्य में भीषण बाढ़ के हालात बन गए हैं और इसकी चपेट में आने से अब तक 71 लोगों की मौत हो चुकी हैं तथा करीब 40 लाख की आबादी प्रभावित हुयी हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन विभाग की तरफ से बुलेटिन के अनुसार पिछले 24 घंटों में पांच और लोगों की मौत के बाद राज्य में बाढ़ की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या बढ़कर 71 हो गयी हैं। विभाग के अनुसार बाढ़ से अब तक 36,42,546 लोग प्रभावित हुए है और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर आश्रय प्रदान करने के लिए कई जिलों में 303 राहत शिविर बनाये गए हैं। 

लखीमपुर, सोनितपुर, दारंग, नलबारी,बारपेटा, बोंगईगांव, धुबरी, दक्षिण सलामार और मोरीगांव इलाके बाढ़ से सबसे बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। राज्य के 27 जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं तथा 3218 गांव और अन्य इलाकों में जल भराव की स्थिति बनी हुयी हैं। राज्य में बहने वाली ब्रह्मपुत्र नदी समेत आठ बड़ी नदियां पांच क्षेत्रों में और कोपीली नदी दो क्षेत्रों में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। 

सरकार की तरफ से बनाये गए राहत शिविरों में करीब 50,000 लोग आश्रय ले रहे हैं। इसके अलावा काजीरंगा राष्ट्रीय पार्क में बाढ़ के कारण अब तक 79 जानवरों की मौत हो गयी है और अब तक 121 जानवरों को सुरक्षित बचाया गया हैं। मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और कृषि मंत्री अतुल बोरा ने काजीरंगा राष्ट्रीय पार्क में बाढ़ से मची तबाही का तबाही का जायजा लिया।

वहीं असम में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 20,000 के पार हो गई है जबकि सक्रिय मामलों की संख्या 7000 पार हो गई है। असम के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने कहा कि राज्य में 892 नये मामले सामने आए हैं जिससे कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 20,646 हो गई है। उन्होंने कहा कि असम में पहली बार सक्रिय मामलों की संख्या 7039 हो चुकी है। इन नये मामलों में गुवाहाटी से सबसे अधिक 598 मामले सामने आये हैं। पिछले 24 घंटों में कोरोना से दो मौतें होने से कुल मौतों की संख्या बढ़कर 50 हो गई है।वहीं इस दौरान कोरोना से संक्रमित 666 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं जिससे कुल स्वस्थ मरीजों की संख्या बढ़कर 13554 हो गई है।