एक तरफ जहां पूरा देश कोरोना से जंग लग लड़ रहा हैं वही दूसरी तरफ उग्रवादियों का आतंक भी जारी है। चराईदेव जिले में पांच उल्फा उग्रवादियों को बारूद के साथ गिरफ्तार किया गया।  रिपोर्ट के मुताबिक, इन उग्रवादियों ने इस जिले के एक परिवार के यहां पर शरण ली थी। पुलिस ने बताया कि जहां पर इन उग्रवादियों ने शरण ली थी, उस मकान मालिक को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल का इस जिले में दौरा था, इसी दौरान यह गिरफ्तारी हुई है। अधिकारियों ने बताया कि असम-अरुणाचल प्रदेश-नागालैंड सीमा के इलाकों में उल्फा आंतकवादियों की आवाजाही की जानकारी मिलने के बाद सुरक्षबलों ने इन उग्रवादियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाया था। उन्होंने बताया कि पुलिस को एक मकान में पांच लोगों के छुपे होने की सूचना मिली थी। इसके बाद असम पुलिस ने भारतीय सेना के साथ मिलकर संयुक्त अभियान चलाया। इस दौरान गांव की घेराबंदी की गई और पांच उग्रवादियों सहित मकान मलिक को भी गिरफ्तार किया गया।

वहीं दूसरी ओर असम में कार्बी आंगलोंग में सेना के साथ गोलाबारी में दो डीएनएलए कैडर मारे गए। दिमसा नेशनल लिबरेशन आर्मी (DNLA) के दो कैडर शुक्रवार को मब्बी में कार्बी आंगलोंग के दीफू पुलिस स्टेशन के तहत मुगलादिसा क्षेत्र में सेना के 12 पैरा स्पेशल फोर्स की एक टुकड़ी के बीच हुई गोलीबारी में मारे गए। सूत्रों के अनुसार, मारे गए दो कैडरों की पहचान रूपसोन थोसन उर्फ गेदैन (32 वर्ष) और रूपसन थसेन उर्फ किम जंग (32 वर्ष) के रूप में हुई है। सुरक्षा बलों ने उनके कब्जे से एक एम -4 राइफल, एक एके -56 राइफल और 160 जिंदा गोला बारूद भी बरामद की है।