पूर्वोत्तर राज्य असम में शिकारियों ने कथित रुप से एक वयस्क मादा गैंडे (Female rhino killed in Assam) को मार डाला है। अधिकारियों को मिले गैंडे के शव से सींग गायब थे। ये हत्या काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (Kaziranga National Park) और टाइगर रिजर्व में हुई थी। बता दें कि इससे पहले अप्रैल में गैंडे के शिकार की घटना सामने आई थी। 

हिलेखोंडा कैंप क्षेत्र के वन कर्मचारियों लंबी हाथी घास के अंदर करीब 30 साल की मादा गैंडे का शव (rhino poaching) मिला था। वहीं वन अधिकारियों को गैंडे के शिकार की आशंका है क्योंकि उसके सींग नहीं थे। ऐसे में शिकारियों को पकडऩे के लिए बड़े स्तर पर तलाशी अभियान शुरु कर दिया गया है। वहीं खोजी कुत्तों को भी तैनात किया है। बता दें कि गैंडे का शव इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेट कप्तान केविन पीटरसन (Kevin Pietersen) द्वारा असम में गैंडों के अवैध शिकार को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के नेतृत्व वाली सरकार की प्रशंसा करने के एक दिन बाद मिला है।

बता दें कि पिछले साल अप्रैल में काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (Kaziranga National Park) के कोहोरा रेंज में हनुमान वन शिविर के जिलेखुंडा बील में एक वयस्क नर गैंडे का शव मिला था, जिसका भी सींग गायब था। असम सरकार के आंकड़ों के अनुसार 2021 में काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में शिकारियों (rhino poachin in Assam ) द्वारा एक गैंडे, 2020 में दो, 2019 में तीन, 2018 में सात और 2017 में छह को  मार दिया गया था। राज्य में गैंडों का अवैध शिकार 2013 और 2014 में चरम पर था, जिसमें हर साल 27 गैंडों का शिकार किया जाता था। शिकारियों ने 2015 में राज्य के राष्ट्रीय उद्यानों और वन्यजीव अभयारण्यों में 17 एक-सींग वाले गैंडों को मार (rhino poachin) डाला और 2016 में 18 गैंडों को मार डाला था। हालांकि वन रक्षकों की संख्या में वृद्धि सहित असम वन विभाग द्वारा उठाए गए कदमों की एक सीरीज के बाद उनके सींग और दांत के लिए गैंडों और हाथियों का अवैध शिकार काफी कम हो गया था। असम में वर्तमान में 2,640 भारतीय एक-सींग वाले गैंडों की अनुमानित आबादी है।