नकली उर्वरक और कीटनाशक की सप्लाई सिर्फ प्रदेश में ही नहीं, बल्कि यूपी, असम और छत्तीसगढ़ तक होती थी। गत दिवस खजरी-खिरिया बायपास चौराहे के पास अमर कृषि फार्म स्थित गोदाम से संचालित नकली उर्वरक एवं कीटनाशक बनाने की फैक्ट्री पर जब कार्रवाई की गई तो यह हकीकत सामने आई। 

इस मामले में नकली उर्वरक, नकली कीटनाशक एवं नकली फफूंद नाशक औषधियों के अवैध स्टॉक  एवं विक्रय के मामले में चेरीताल स्थित महेश बीज भंडार के संचालक महेश खत्री के विरुद्ध कोतवाली थाने में एफआईआर भी दर्ज कराई गई है। उपसंचालक कृषि डॉ. एसके निगम ने बताया कि  महेश बीज भंडार की आकस्मिक जाँच की गई तो प्रतिष्ठान पर लाइसेंस की शर्तों के अनुरूप निर्धारित कंपनियों के स्थान पर अन्य कंपनियों के कीटनाशक पाये गये थे। 

यही नहीं लाइसेंस में इस प्रतिष्ठान का प्रोप्राइटर मयंक खत्री को बताया गया था, जबकि इसका संचालन महेश खत्री द्वारा करना पाया गया। उन्होंने बताया कि आकस्मिक निरीक्षण के दौरान बिल वाउचर का अवलोकन करने पर इस प्रतिष्ठान से लाइसेंस की शर्तों के विपरीत कीटनाशक एवं उर्वरक की सप्लाई दूसरे प्रदेशों में की जाती थी। निरीक्षण में महेश बीज भंडार में स्टॉक पंजी भी नहीं पाई गई थी।