असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी भारत को राज्यों का संघ बताकर अलगाववादी तत्वों को प्रोत्साहित कर रहे हैं। ऐसे में उनके और विद्रोही समूह उल्फा के बीच कोई अंतर नहीं है। सरमा आरएसएस से जुड़े वीकलीज पांचजन्य एंड ऑर्गनाइजर के मीडिया कॉन्क्लेव में बोल रहे थे।

ये भी पढ़ेंः मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा को मिला सबसे लोकप्रिय सीएम का दर्जा


आयोजक संपादक प्रफुल्ल केतकर के राहुल गांधी द्वारा भारत को राज्यों का संघ बताने के बारे में पूछे गए सवालों के जवाब में सरमा ने कहा कि भारत सांस्कृतिक रूप से एक है। भारत को सिर्फ राज्यों के संघ के रूप में पहचानना हमारी 5000 साल पुरानी समृद्ध सभ्यता को चुनौती देने के समान है, अगर भारत राज्यों का संघ है, तो इसका मतलब है कि आप भारत की हर चीज पर विवाद कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब राहुल गांधी लोगों को यह समझा रहे हैं कि भारत राज्यों का एक संघ है। वह अलगाववादी तत्वों को प्रोत्साहित कर रहे हैं। हो सकता है कि जेएनयू से कोई उन्हें पढ़ा रहा हो। अंग्रेजी के अलावा उनकी और उल्फा की भाषा में कोई अंतर नहीं है। 2015 में कांग्रेस से भाजपा में आने वाले सरमा ने कहा कि सोनिया गांधी के नेतृत्व वाली पार्टी गांधी परिवार से परे कुछ भी नहीं है। 

ये भी पढ़ेंः भीड़ ने लिया विकराल रूप, बटाद्रवा थाने में लगा दी आग पुलिसकर्मी हुए गंभीर घायल


उन्होंने कहा, कांग्रेस में गांधी परिवार के अलावा कुछ नहीं है। भाजपा में हम देश को पहले रखते हैं, लेकिन अगर आप जाकर गांधी परिवार से कहते हैं कि भारत आपसे बड़ा है, तो आप कांग्रेस में अपनी नौकरी खो देंगे। सरमा ने अपनी मातृभाषा के अलावा हिंदी सीखने की वकालत की क्योंकि इससे देश के कई राज्यों में रोजगार पाने में मदद मिलती है। उन्होंने कहा, अपनी मातृभाषा को जानना और सीखना चाहिए, लेकिन साथ ही हिंदी भी सीखनी चाहिए ताकि दूसरे राज्यों में काम करने में कोई कठिनाई न हो।