असम के तेजपुर मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (TMCH) ने अस्पताल की कई महिला MBBS इंटर्न को परेशान करने के लिए अपने जूनियर डॉक्टर राकेश मेधी को निलंबित कर दिया है। डॉक्टर मेधी की सेवा अगले छह महीने के लिए निलंबित कर दी गई है। आरोपी, जो TMCH में सर्जरी का स्नातकोत्तर (पीजी) का छात्र है, को भी छात्रावास खाली करने के लिए कहा गया है। निलंबन आदेश TMCH की प्रधान सह मुख्य अधीक्षक डॉ करुणा हजारिका ने जारी किया है।

इससे पहले, TMCH के प्रधानाचार्य ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, ​​मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा और असम पुलिस को सोशल मीडिया, विशेष रूप से ट्विटर के माध्यम से MBBS छात्रों के कथित उत्पीड़न की रिपोर्ट के बाद जांच के आदेश दिए थे। अंशुल का भाई नाम के एक शख्स ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि "तेजपुर मेडिकल कॉलेज में सीनियर पीजी द्वारा महिला इंटर्न को परेशान किए जाने की घटनाएं बढ़ रही हैं, कृपया इस मामले को देखें। कई लोग चुप हैं क्योंकि वे डरते हैं।"

असम पुलिस ने ट्वीट पर तुरंत प्रतिक्रिया दी और सोनितपुर जिले के पुलिस अधीक्षक (एसपी) को दोषियों का पता लगाने के लिए जांच करने को कहा है। सोनितपुर के एसपी ने टीएमसीएच के प्रधान सह मुख्य अधीक्षक से सच्चाई का पता लगाने को कहा है। इस बीच TMCH के प्रधान सह मुख्य अधीक्षक ने जांच के आदेश दे दिए हैं और सच्चाई का पता लगाने के लिए कदम उठाए हैं। प्रधानाचार्य ने अंशुल का भाई से व्यक्तिगत रूप से या अन्य माध्यम से कोई सबूत लाने का भी अनुरोध किया है ताकि कथित दोषियों पर सख्त दंडात्मक कार्रवाई की जा सके।