असम में सबसे ज्यादा कोरोना का प्रकोप है। यहां अभी तक कोरोना से एक की मौत हुई और 42 लोग कोरोना से संक्रमित हैं। कोरोना को लेकर सरकार एक कदम उठाने जा रही है जहां सरकार 4 मई से विस्तारित तालाबंदी के लिए राज्य की योजना की घोषणा करेगी, जो ज्यादातर केंद्रीय दिशानिर्देशों के अनुरूप मानी जा रही है। कर्फ्यू की अवधि के संदर्भ में कम से कम एक बड़ा बदलाव होना है।
राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने जानकारी देते हुए बताया कि विस्तृत योजना पर काम किया जा रहा है, लेकिन ग्रीन जोन जिलों में आर्थिक गतिविधियां बढ़ेंगी। हमने यह भी तय किया है कि कर्फ्यू की अवधि 7 के बजाय 6 बजे से सुबह 6 बजे तक रहेगी। शुरुआती कर्फ्यू की अवधि राज्य में शुरुआती सूर्योदय के मद्देनजर है, जो गुजरात में सबसे पश्चिमी बिंदु पर सूर्योदय के समय से लगभग दो घंटे आगे है।


बिस्वा ने बताया कि राज्य में कोई भी रेड ज़ोन जिला नहीं हैं और केवल चार ज़िलों- धुबरी, गोलपारा, बोंगाईगाँव और मोरीगाँव जिलों को ऑरेंज जोन के रूप में चिह्नित है। शेष सभी 29 जिले ग्रीन जोन में शामिल हैं। सरमा ने बताया कि केंद्र सरकार ने ज़ोन सू मोटो को अपकमिंग करने के लिए राज्यों को अधिकृत किया है और इसलिए राज्य सरकार अपने लाल ज़ोन बना सकती है।

सरकार उन सभी जिलों के नामों की भी घोषणा करेगी, जो रेड और ऑरेंज जोन में आते हैं। इन क्षेत्रों को सरकार द्वारा दिए गए सभी नियमों और विनियमों का पालन 3 मई तक करना होगा। उन्होंने कहा कि दुनिया भर से असम की स्थिति काफी अच्छी है। हालात नियंत्रण में हैं। हाल में कोई नया मामला कोरोना का नहीं आया है।