असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने गुरुवार को कहा कि ब्रह्मपुत्र नदी में जोरहाट-माजुली जल मार्ग पर सभी एकल इंजन वाली निजी नौकाओं के परिचालन पर पाबंदी लगायी जाएगी। सरमा ने बह्मपुत्र नदी में दो नावों की टक्कर में एक नाव के पलटकर डूबने पर पुलिस को इस संबंध में एक आपराधिक मामला दर्ज करने का आदेश दिया था। जिसमें एक यात्री की जान चली गई थी जबकि कईं लोग अभी भी लापता हैं। 

सरमा ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ दुर्घटना स्थल का दौरा करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि बुधवार शाम हुई इस दुर्घटना में शुरुआती जांच में मुख्य कारण कुप्रबंधन माना गया है। उल्लेखनीय है कि अंतर्देशीय जल परिवहन विभाग के तीन वरिष्ठ अधिकारियों को नाव पलटने के मामले में पहले ही निलंबित किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा, मैंने जोरहाट पुलिस को दुर्घटना के इस संबंध में आपराधिक मामला दर्ज करने को कहा है। हम इस दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए उच्च स्तरीय जांच की घोषणा करेंगे। 

सरमा ने यह भी कहा कि ब्रह्मपुत्र के दक्षिणी तट पर जोरहाट में निमाती घाट से दुनिया के सबसे बड़े द्वीप माजुली के बीच एकल इंजन वाली 10 निजी नौकाएं चलती हैं। उन्होंने कहा आज से सभी एकल इंजन वाली नौकाओं का परिचालन प्रतिबंधित हो जाएगा। सरमा ने कहा कि इन नौकाओं को समुद्री इंजन में बदलने के इच्छुक मालिक इसे बदल सकते हैं और सरकार इसके लिए उनकी आर्थिक मदद करेगी। उन्होंने कहा कि दुर्घटनाग्रस्त निजी नाव में कुल 90 लोग सवार थे। जिनमें से एक व्यक्ति की मौत हो गयी है और दो लापता है। अन्य 87 लोगों को रातभर चले बचाव अभियान के दौरान बचा लिया गया।