असम में 1 अप्रैल से 26 जून के बीच कोविड के 2,80,504 मामलों में से 12 फीसदी से अधिक 18 साल तक के बच्चे हैं। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) असम चैप्टर के अधिकारियों ने कहा कि 1 अप्रैल से 26 जून के बीच सभी 34 बच्चों ने कोविड-19 के कारण दम तोड़ दिया।

एनएचएम के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, कुल 2,80,504 कोविड संक्रमित लोगों में से, 34,606 (12.33 प्रतिशत) 0 से 18 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चे थे। विश£ेषण से पता चला कि कुल 34,606 में से 5,755 बच्चे 5 वर्ष से कम उम्र के थे, जबकि 28,851 बच्चे 6 से 18 वर्ष आयु वर्ग के थे। असम के 34 जिलों में से, अधिकतम 14.38 प्रतिशत बच्चे 1 अप्रैल से 26 जून के बीच नागांव जिले में संक्रमित पाए गए, इसके बाद सोनितपुर (13.89 प्रतिशत), डिब्रूगढ़ (12.19 प्रतिशत), कामरूप ग्रामीण (11.75 प्रतिशत) का स्थान रहा। सेंट और कामरूप मेट्रो (10.04 प्रतिशत), जिसमें राज्य के दो मुख्य शहर - गुवाहाटी और दिसपुर हैं।

एनएचएम के एक बयान में कहा गया है कि 34 बच्चों में से कई की मृत्यु जन्मजात बीमारियों (हृदय, गुर्दे, दुर्लभ विकृतियों) जैसी सहवर्ती बीमारियों के कारण हुई, खासकर 5 साल से कम उम्र के बच्चों में।बयान में कहा गया है कि चल रहे असम सामुदायिक निगरानी कार्यक्रम चरण 3 (एसीएसपी 3) के दौरान, यह पाया गया है कि कोविड संक्रमित माता-पिता और अभिभावकों के साथ रहने वाले कई बच्चे, जिन्होंने घर से अलगाव का विकल्प चुना, वे बाद में वायरस के लिए संक्रमित हो गए। सलाह दी जा रही है कि जिन माता-पिता और अभिभावक कोविड संक्रमित हैं, उन्हें होम आइसोलेशन के बजाय संस्थागत संगरोध का विकल्प चुनना चाहिए, ताकि बच्चों में वायरस के प्रसार को रोका जा सके।