असम का एक लोक गायक कोविड-19 मरीजों को अच्छा फील कराने के लिए म्यूजिक थेरेपी का सहारा ले रहा है। असम के सिलचर के मालूग्राम से नाता रखने वाले बिक्रमजीत कार लोक गायक हैं और बाउलिया नाम से मशहूर हैं। 33 साल के बिक्रमजीत फोन पर कोविड-19 संक्रमित मरीजों से बात करते हैं और उन्हें अपना गीत-संगीत सुना कर सुकून देने की कोशिश करते हैं। सोशल मीडिया पर बिक्रमजीत के इस कदम की तारीफ हो रही है। 

बिक्रमजीत ने आज तक को फोन पर बताया कि असम और देश के अन्य हिस्सों से 250 से ज्यादा लोगों ने उन्हें कॉल किया और उनसे गाने सुने। बिक्रमजीत के मुताबिक उन्होंने अब कोविड-19 संक्रमित लोगों के मानसिक दबाव को कम करने के लिए ये कैंपेन शुरू किया है। इसके तहत बिक्रमजीत खुद उन्हें फोन करते हैं और उनकी सेहत का हाल लेते हैं। बिक्रमजीत ने बताया, इस साल मैं कोलकाता की गायिका लोपामुद्रा से बहुत प्रभावित हुआ, जब उन्होंने कोविड-19 मरीजों के लिए गाना शुरू किया। अनिश्चितता और डर के इस माहौल में मैं कोविड-19 संक्रमित लोगों को अपने संगीत से अच्छा और तनावमुक्त महसूस कराने की कोशिश कर रहा हूं। सिलचर, लुमडिंग, गुवाहाटी, कोलकाता, गुजरात, रायपुर, दिल्ली, पुणे आदि से लोग मुझे फोन कर  मेरे गाने सुनने की इच्छा जता रहे हैं।” 

बिक्रमजीत ने बताया, “कुछ दिन पहले मैंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट अपलोड की थी, जिसमें कहा था कि जो लोग कोविड-19 पॉजिटिव होने के बाद घर या अस्पताल में उदास महसूस कर रहे हों, वो मुझे कॉल कर सकते हैं, मैं उनसे गपशप करूंगा और गाने सुनाऊंगा।” बिक्रमजीत के मुताबिक वो अपनी अपील पर मिले रिस्पॉन्स से बहुत खुश हैं। बिक्रमजीत कहते हैं, “इतने लोग मुझे कॉल कर गाने सुन रहे हैं। ये मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि है। मैं वादा करता हूं कि मैं उनके लिए और ज्यादा करूंगा। कल ही एक शख्स का फोन आया जिसने कहा कि उसने मेरे गाने सुनने के बाद बहुत अच्छा महसूस किया और अब कोविड-19 टेस्ट भी निगेटिव आया है। मैं उनके लिए कुछ कर पा रहा हूं, ये मेरे लिए बड़ी खुशी की बात है।” बिक्रमजीत अपने घर के पास मेडिकल स्टोर भी चलाते हैं। वो क्षेत्र में रहने वाले कोविड-19 मरीजों के दरवाजे तक दवाएं पहुंचाते हैं।