भारत में कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा कि राज्य के सरकारी मेडिकल कॉलेजों और अन्य अस्पतालों में 'ऑड आवर मैनेजमेंट' रणनीति पर काम कर रहे हैं। पिछले हफ्ते ही असम के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हिमंता बिस्वा सरमा देर रात 2.30 बजे गुवाहटी स्थित मेडिकल कॉलेज का दौरा करने पहुंचे, उन्होंने वहां कोविड की स्थिति का जायजा लिया। एक ट्वीट के माध्यम से उन्होंने इसकी जानकारी देते हुए डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ का आभार व्यक्त किया। उन्होंने लिखा कि विषम परिस्थितियों में गंभीर मरीजों की देखभाल करना खासा चुनौतीपूर्ण होता है। रात 2.30 बजे मैं GMCH का दौरा करने पहुंचा, यह देखने के लिए इमरजेंसी वार्ड में मरीजों की देखभाल किस तरह से किया जा रहा है। बकौल सरमा, मैं अस्पताल की व्यवस्था से संतुष्ट था, साथ ही डॉक्टरों व नर्सिंग स्टाफ का आभार व्यक्त करता हूं। 

संवाददाताओं से बात करते हुए असम के मुख्यमंत्री ने कहा कि हम पहले भी देर रात अस्पताल प्रबंधन पर चर्चा कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि यहां सीनियर डॉक्टरों को रात 11 बजे से सुबह 7 बजे तक ड्यूटी पर लगा रहे हैं, क्योंकि हमने देखा है कि ज्यादातर मरीजों की मौत रात के वक्त होती है। कुछ मरीज तो रात के वक्त ही एडमिट होने के लिए ही आते हैं और कुछ ही वक्त में उनकी मौत भी हो जाती है। 

उन्होंने बताया कि ज्यादातर सीनियर डॉक्टर दिन की शिफ्ट में ड्यूटी किया करते थे, इसलिए अब उन्हें रात की ड्यूटी में भी लगाया जा रहा है। सीएम सरमा के अनुसार हर वार्ड में सीसीटीवी कैमरे लगवा दिए गए हैं, हम हर चीज पर नजर रख रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि हमारे पास पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध है। साथ ही अस्पतालों में बेड की संख्या भी पर्याप्त है लेकिन हम इनकी संख्या बढ़ाने की प्रक्रिया पर काम कर रहे हैं। इस बीच, असम सरकार ने रविवार से राज्य में कर्फ्यू का समय दोपहर 2 बजे से रात 12 बजे तक बढ़ा दिया है। 

मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि हमने देखा है कि कर्फ्यू का समय बढ़ाने के बाद गुवाहाटी में कोविड के पॉजिटिव 1600 से घटकर 1000 पर आ गए हैं, लिहाजा हमने दोपहर 2 बजे से रात 12 बजे तक कर्फ्यू का समय बढ़ाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि हम इस सप्ताह पॉजिटिविटी रेट देखने के बाद आगे फैसला लेंगे।