गुवाहाटी। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Assam Chief Minister Himanta Biswa Sarma) ने सोमवार को ब्रह्मपुत्र नदी (Brahmaputra river) पर 8.25 किलोमीटर लंबे पुल के निर्माण कार्य का शुभारंभ किया। यह पुल विश्व के सबसे बड़े नदी द्वीप माजुली को जोरहाट से जोड़ेगा। इसकी लागत करीब 925 करोड़ रुपये होगी।

मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी किए गए एक आधिकारिक बयान के मुताबिक इस परियोजना को उत्तर प्रदेश राज्य पुल निर्माण निगम लिमिटेड, लखनऊ द्वारा निष्पादित किया जाएगा। इस परियोजना को पूरा करने की लक्षित अवधि चार वर्ष है।

सरमा (sarma) ने माजुली में इसका निर्माण कार्य शुरू किया, जहां उन्होंने यह भी घोषणा की कि असम सरकार (Assam government) 750 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से द्वीप के उत्तरी हिस्से में माजुली को लखीमपुर से जोड़ने वाला एक नया पुल बनाएगी।

मुख्यमंत्री कार्यालय के बयान के मुताबिक माजुली-जोरहाट पुल के निर्माण के लिए केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने 925.47 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं। इस परियोजना में दक्षिणपत में राष्ट्रीय राजमार्ग-715K (NH-715K) के जरिए ब्रह्मपुत्र नदी पर सड़क मार्ग का निर्माण शामिल है।

इस अवसर पर सरमा ने कहा, ‘आज माजुली के लोगों के लिए एक ऐतिहासिक दिन है। माजुली-जोरहाट पुल के निर्माण का शुभारंभ एक मील का पत्थर है और यह जिले की विकास यात्रा को नयी गति देगा।’

उन्होंने कहा, ‘यह पुल माजुली के लोगों की लंबे समय से मांग थी। एक बार इस पुल का निर्माण पूरा हो जाने के बाद, यह द्वीप जिले में तेजी से विकास के अलावा जोरहाट और माजुली के बीच संपर्क को एक शानदार बदलाव देगा।’ इस पुल का निर्माण नवंबर 2025 तक पूरा होने की उम्मीद है।