कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में बंगाल के कांग्रेस प्रभारी जितिन प्रसाद ने राज्य में कांग्रेस के बुरे प्रदर्शन के लिये आईएसएफ (ISF) के साथ गठबन्धन को जिम्मेदार माना और आईएसएफ के साथ गठबंधन को लेफ्ट का फैसला बताया। सूत्रों के मुताबिक जितिन प्रसाद ने कहा कि क्योंकि कांग्रेस का गठबंधन लेफ्ट के साथ था और आईएसएफ को गठबंधन में शामिल करने का फैसला लेफ्ट का था।

सूत्रों के मुताबिक जितिन प्रसाद ने CWC की बैठक में ये भी कहा कि कांग्रेस को तय करना होगा की वो बंगाल में लेफ्ट के साथ रहेंगे या टीएमसी के साथ। जितिन प्रसाद ने कहा कि दिल्ली का नेतृत्व ममता के साथ दिखता है और प्रदेश का नेतृत्व ममता के खिलाफ। बंगाल में कांग्रेस और लेफ्ट दोनों को एक भी सीट हासिल नहीं हुई हैं।

CWC की बैठक में असम में AIUDF के साथ कांग्रेस के गठबंधन पर भी सवाल उठा। सूत्र के मुताबिक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने असम में AIUDF के साथ गठबंधन के फैसले को गलत माना और सवाल खड़ा किया। दिग्विजय सिंह असम में कांग्रेस के प्रभारी रह चुके है और कांग्रेस सरकार लाने में भूमिका निभा चुके हैं। हालांकि असम के प्रभारी भंवर जितेंद्र सिंह ने राज्य में पार्टी के अंदर गुटबाजी को भी हार का मुख्य कारण माना।

सूत्रों के मुताबिक CWC की बैठक में केरल मे कांग्रेस की हार के पीछे राज्य के पार्टी प्रभारी ने अति आत्मविश्वास को कारण बताया। केरल में 40 साल बाद पहली बार ऐसा हुआ कि कोई सरकार लगातार दूसरी दफा काबिज हुई है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने चुनावी राज्यो में हार के लिये एक कमेटी के गठन का फैसला किया है जो अगले 48 घण्टे के अंदर अस्तित्व में आ जायेगी। कमेटी चुनावी राज्यों में जाएगी और पार्टी के कार्यकर्ता, उम्मीदवारों से लेकर राज्य के शीर्ष नेतृत्व से बातचीत कर रिपोर्ट तैयार करेगी और कांग्रेस अध्यक्ष को सौंपेगी।