कांग्रेस के लोकसभा सदस्य गौरव गोगोई ने कि राज्य में बढ़ रही बेरोजगारी के चलते युवा तेजी से विद्रोही समूह उल्फा में शामिल हो रहे हैं। ऐसे में सरकार को इसे रोकने के लिए तत्काल कदम उठाने चाहिए। शून्यकाल में उन्होंने कहा कि इससे युवाओं को आसानी से पैसा कमाने में मदद मिलती है, लेकिन इससे उनका और उनके परिवार का भविष्य खतरे में पड़ता है।

ये भी पढ़ेंः ब्रह्मपुत्र नदी के नीचे जुड़वा सुरंग बनाने की अपनी महत्वाकांक्षी योजना को छोड़ सकता है केंद्र


गोगोई ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से युवा यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (उल्फा) में रोजगार के अवसरों की कमी के कारण शामिल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्थिति की जांच की जानी चाहिए और केंद्र को समाधान खोजने के लिए खुफिया और सुरक्षा विशेषज्ञों की एक टीम भेजनी चाहिए। उन्होंने आगाह किया कि अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को साझा करने वाले राज्यों में इस तरह के मामले बढ़ते जा रहे हैं। 

ये भी पढ़ेंः नगांव जिला भाजपा महिला मोर्चा की कार्यकारिणी बैठक सम्पन्न, देखें तस्वीरें


वहीं बाक्सा जिला के बरबारी थाना अंतर्गत शीलाकुटी गांव से पुलिस ने प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट आफ असम (उल्फा) स्वाधीन (स्व)) के साथ संपर्क रखने के आरोप में एक युवक को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बुधवार को बताया कि लाचित सहरिया (23) को उल्फा (स्व) में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। यह जानकारी जिला के पुलिस अधीक्षक उज्जवल प्रतिम बरुवा ने दी है। लचित को उसके घर से गिरफ्तार किया गया है। वहीं जिला के गोवर्धना पुलिस थाना के अधीन उद्धव दास नामक युवक के भी उल्फा (स्व) में शामिल होने की जानकारी पुलिस को मिली है। वहीं इस घटना को लेकर लाचित के परिजनों ने बताया कि उसके ऊपर लगाए गए आरोप सरासर गलत है। घटना के संबंध में पुलिस एक प्राथमिकी दर्ज कर गिरफ्तार युवक से सघन पूछताछ कर रही है।