असम में हिमंत बिस्वा सरमा सरकार पर निशाना साधते हुए निर्दलीय विधायक अखिल गोगोई ने शुक्रवार को दावा किया कि राज्य में राजनीतिक अराजकतावाद बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री की बात ही एकमात्र कानून बन गया है।

रायजोर दल के प्रमुख गोगोई ने संवाददाता सम्मेलन में मई के बाद से पुलिस मुठभेड़ों की बढ़ती संख्या पर निराशा व्यक्त की। कहा कि पूर्वोत्तर राज्य में अब संविधान का पालन नहीं किया जाता। उन्होंने कहा, अगर मुख्यमंत्री कोई सपना देखते हैं, तो अगले दिन कैबिनेट की बैठक बुलाई जाती है। 

उन्होंने सपने में जो कुछ देखा, वह बिना किसी चर्चा या प्रक्रिया के कानून बन जाता है। मुख्यमंत्री जो कुछ भी कहते हैं वह यहां कानून बन जाता है। गोगोई ने आरोप लगाया, आजादी के बाद से असम के राजनीतिक इतिहास में ऐसी स्थिति कभी नहीं आई। राज्य में पूरी तरह से राजनीतिक अराजकता है। मैंने पढ़ा है कि सरमा के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद से 56 मुठभेड़ हुई हैं।