भारत के मुख्य न्यायाधीश (CJI) शरद अरविंद बोबड़े ने रविवार सुबह गुवाहाटी के कामाख्या मंदिर में पूजा-अर्चना की है। बता दें कि सीजेआई बोबडे, जो दो दिवसीय यात्रा पर असम आए हैं। गुवाहाटी में रात भर रहने के बाद, न्यायमूर्ति बोबडे ने निचलौल की पहाड़ियों में स्थित शक्ति तीर्थ स्थल का दौरा किया। मंदिर परिसर में सीजेआई की यात्रा के मद्देनजर सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। सीजेआई बोबडे मिजोरम के लिए रवाना होंगे, जहां वह दो दिन रहेंगे।


न्यायमूर्ति बोबड़े 23 दिसंबर को त्रिपुरा का दौरा करने के बाद अपने पूर्वोत्तर दौरे की शुरुआत करेंगे। पूर्वोत्तर मे कई चीजों का मुआइना करेंगे। राज्य सरकारों से राज्य के विकास के बारे में और कई मुद्दों को लेकर भी चर्चा कर सकते हैं लेकिन किसी को भी इस बात का नहीं पता है कि बोबडे किन किन मुद्दों को लेकर सरकारों से बात करेंगे। जस्टिस बोबडे ने गुवाहाटी में असम विश्वविद्यालय स्टाफ कॉलेज में डब्ल्यूडब्ल्यूएफ-इंडिया के सहयोग से न्यायिक अकादमी, असम द्वारा आयोजित वन्यजीवों के संरक्षण पर एक उन्मुखीकरण कार्यक्रम को संबोधित किया।