आज मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा ने असम पुलिस के साहस की सरहाना की है। उन्होने का कि 150 वर्षों के इतिहास के गवाह असम पुलिस के समर्पण और अदम्य साहस को पहचान दिलाने के लिए असम पुलिस को हार्दिक बधाई। 150 साल के इतिहास का गवाह है, असम पुलिस के समर्पण और अदम्य साहस की पहचान है।



असम पुलिस को यह सम्मान देने के लिए माननीय गृहमंत्री श्री अमित शाह जी का हार्दिक आभार। हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्रीनरेंद्र मोदी और माननीय गृहमंत्री श्री अमित शाह के दूरदर्शी नेतृत्व में असम ने शांति और विकास के मार्ग में एक नई गति प्राप्त की है।

यह भी पढ़ें- बॉर्डर समझौता: MDA के लिए कोई वापसी नहीं, कोई आत्मसमर्पण नहीं





यह भी पढ़ें- Congress सस्पेंड MLA अम्पारीन लिंगदोह की बहन जैस्मीन नोंगथिम्मई NPP में हुई शामिल, यहां से लड़ेंगी चुनाव

अपने प्राणों की रक्षा और शांति बनाए रखने की खातिर कर्तव्य पर बलिदान हुए सभी पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि। मातृभूमि की खातिर सर्वाधिक बलिदान देने वाले हमारे पुलिस बल के कठिन प्रयास के बिना यह ऐतिहासिक उपलब्धि संभव नहीं थी। उनके साहस और समर्पण ने असम पुलिस को इस प्रतिष्ठा को हासिल करने के लिए असम को दसवें राज्य के रूप में पेश करने में सक्षम बनाया है।

हमारी सरकार ने असम पुलिस को और अधिक मजबूत बनाने की दिशा में सभी कदम उठाए हैं। प्रत्येक पुलिसकर्मी के शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य को बनाए रखना हमारा प्राथमिक कर्तव्य है। मुझे दृढ़ विश्वास है कि असम पुलिस 'जनहित' के मूल मंत्र के माध्यम से हमारे नागरिकों के हितों की रक्षा करने में अपना जीवन बलिदान करेगी।