असम में तीन चरणों में विधानसभा चुनाव संपन्न होंगे। पहले चरण का चुनाव 27 मार्च को होगा। सभी राजनीतिक पार्टियां रैलियां करने और नामांकन दाखिल करने में लगी हुई है। इसी कड़ी में ऊपरी असम के जिलों में कांग्रेस उम्मीदवारों के लिए असम के अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) के सचिव, विकास उपाध्याय ने कहा कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री राज्य की चाय बेल्ट में प्रचार करेंगे। कांग्रेस सत्ता वापस पाने के लिए बूथ प्रबंधन के छत्तीसगढ़ मॉडल को भी लॉन्च किया है।

उपाध्याय ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि अगर कांग्रेस असम की सत्ता में आती है तो हम दैनिक मजदूरी में बढ़ोतरी करेंगी। चाय बागान के श्रमिक 365 रुपये तक बढ़ाएंगी। हमारे कार्यकर्ता जमीनी स्तर पर कड़ी मेहनत कर रहे हैं। AICC सचिव ने राज्य की जनता से किए गए वादों को पूरा करने में विफल रही भाजपा सरकार की भी कड़ी आलोचना की है। इन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों में, भाजपा सरकार लोगों की वास्तविक समस्याओं को पूरा करने में विफल रही है।


विकास उपाध्याय ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पांच गारंटी दी, जिसे पूरा करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। इस बीच, कांग्रेस का चुनाव अभियान छत्तीसगढ़ मॉडल को उजागर करेगा कि भाजपा के शासन के 15 साल बाद राज्य में पार्टी कैसे सत्ता में आई। 2018 में, छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने सभी एग्जिट पोल को खारिज कर दिया और 90 में से 68 सीटें जीतने वाले राजनीतिक पंडितों को झटका दिया था।