वेदांत बरुआ निवेशक श्रेणी में 10 साल का गोल्डन वीजा पाने वाले पहले असमिया बन गए हैं। उन्हें संयुक्त अरब अमीरात में अबू धाबी के आर्थिक विकास विभाग द्वारा यह प्रदान किया गया है।

गोल्डन वीजा विदेशियों को किसी राष्ट्रीय प्रायोजक की उपस्थिति के बिना संयुक्त अरब अमीरात की मुख्य भूमि पर अपने व्यवसाय के 100 प्रतिशत स्वामित्व के साथ रहने, काम करने और अध्ययन करने में सक्षम बनाता है। असम के डिब्रूगढ़ में रहने वाले बरुआ बन्र्स ब्रेट मसूद इंश्योरेंस एलएलसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं, जिनके कार्यालय संयुक्त अरब अमीरात, ब्रिटेन, यूरोपीय संघ और भारत में हैं।

वह साल 2006 में संयुक्त अरब अमीरात आए थे। दुबई में दो साल तक काम करने के बाद वह बन्र्स ब्रेट समूह काम करने के लिए एक साल के लिए लंदन चले गए। इसके बाद अल मसूद समूह के साथ उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात में संयुक्त उद्यम की स्थापना की, जिसमें वह एक शेयरधारक हैं।

बरुआ ने इस मौके पर कहा, ‘‘यह मेरे लिए गर्व का क्षण है और मैं इस पर अपना आभार जताता हूं। मैं यूएई सरकार और अबू धाबी के आर्थिक विकास विभाग को धन्यवाद देना चाहता हूं। मुझे लगता है कि मेरी जिम्मेदारी अभी बढ़ गई है।’’