असम के चुनिंदा स्कूलों में जल्द ही कक्षा 11 और 12 के लिए बोडो भाषा को एक माध्यम के रूप में पेश किया जाएगा। यह बड़ा ऐलान असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने बुधवार को किया। असम के तामूलपुर जिले में बोडो साहित्य सभा के 61वें सत्र को संबोधित करते हुए असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने यह घोषणा की।

यह भी पढ़े : ओपीएस भदौरिया ने कमलनाथ पर लगाया बड़ा आरोप, कहा-  लोकसभा चुनाव में सिंधिया को हराने रची थी साजिश


मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, "आज इस आयोजन में, असम सरकार की ओर से, मैं घोषणा करना चाहता हूं कि असम के चुनिंदा स्कूलों में बोडो भाषा को एक माध्यम के रूप में पेश करने के लिए कदम उठाए जाएंगे।"

यह भी पढ़े : इस ट्रेन में आप बिना किराया दिए कर सकते हैं सफर, लकड़ी के बने हुए है कोच


उन्होंने आगे कहा: "कक्षा 11 और 12 में बोडो माध्यम शुरू करने से स्नातक और स्नातकोत्तर स्तरों में भाषा को माध्यम के रूप में पेश करने के रास्ते खुलेंगे। इस बीच राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने असम सरकार से बोडो भाषा और साहित्य के प्रचार और विकास के लिए प्रयास शुरू करने का भी आग्रह किया।

यह भी पढ़े : Shani Transit 2022 : शनि परिवर्तन सिंह राशि वालों के लिए लाएगा खुशखबरी, कन्या वालों के लिए बन रही है ऐसी स्थिति


राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को असम के तामूलपुर जिले में बोडो साहित्य सभा के 61वें सत्र को संबोधित किया। राष्ट्रपति कोविंद ने यह सुनिश्चित करने में पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के योगदान को भी याद किया कि बोडो को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किया गया था।