असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा की पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर टिप्पणी के बाद प्रदेश कांग्रेस के नेताओं में उबाल है। बिस्वा की टिप्पणी के बाद कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं ने उन पर पलटवार किया तो वहीं युवा कांग्रेस ने विरोध में पुतला दहन किया। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा कि बिस्वा जैसे नेता अपने बयान के जरिये अपनी मानसिकता और पार्टी की सोच व सिद्धांत का प्रदर्शन कर रहे हैं। 

ऐसे लोगों से और उम्मीद भी नहीं की जा सकती है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा ने कहा कि जिस प्रकार लंकापति बनने के बाद विभीषण अपने विश्वासघात के लिए इतिहास में नफरत का पात्र बना, उसी प्रकार सत्ता जाने के बाद बिस्वा नफरत किए जाने वाले व्यक्ति होंगे। आने वाली सदियों में कोई भी व्यक्ति अपनी संतान का नाम हिमंता नहीं रखेगा। 

दूसरी ओर युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गुंजन पटेल के नेतृत्व में नेताओं ने कारगिल चौक पर बिस्वा का पुतला दहन किया। इस दौरान गुंजन ने कहा कि अपने आकाओं को खुश करने के लिए बिस्वा ऐसी ओछी बयानबाजी कर रहे हैं। यह केवल पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी का अपमान नहीं बल्कि भाजपा के नेताओं का महिलाओं के प्रति गंदी मानसिकता को भी दर्शाता है। बिस्वा को अपने पद पर बने रहने का अधिकार नहीं। प्रदर्शन में पटना महानगर युवा कांग्रेस अध्यक्ष श्री मुकुल यादव, चौधरी चरण सिंह, पूनम यादव, निधि पांडेय, अभिषेक राज निशांत, विशाल कुमार, मुकेश कुमार, ऋष्भ सहित दर्जनों की संख्या में युवा कांग्रेसजन उपस्थित थे।

बता दें कि असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा था कि राहुल गांधी सर्जिकल स्ट्राइक का सुबूत मांगते हैं। हमने कभी पूछा कि वह राजीव गांधी के बेटे हैं या नहीं? एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए हिमंता बिस्वा ने कहा था कि राहुल गांधी एक तरह से आधुनिक समय के जिन्ना हैं। लगता है जिन्ना की आत्मा उनमें घुस गई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के तैयार किए पारिस्थितिकी तंत्र के लोग देश के खिलाफ चीजों को सहन कर सकते हैं, लेकिन वे गांधी परिवार के खिलाफ कुछ भी बर्दाश्त नहीं करेंगे।