बोडोलैंड जनजति सुरक्ष मंच (BJSM) और असम के कई अन्य आदिवासी संगठनों ने भाजपा की सिट्टी पिट्टी गुल कर दी है। इन्होंने मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और वित्त मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा के प्रस्तावित जिले के दौरे के विरोध में 12, 13 और 14 अक्टूबर को कोकराझार जिला बंद करने का आह्वान किया है। जानकारी के लिए बता दें कि 12,13 और 14 अक्टूबर को भाजपा की बैठक होने वाली थी।


BJSM के अध्यक्ष जनकलाल बसुमतरी ने आरोप लगाते हुए कहा कि सर्बानंद सोनोवाल राज्य सरकार ने बीटीआर ’की अवधारणा पर हस्ताक्षरित तथाकथित नए बोडो समझौते के कार्यान्वयन के माध्यम से बीटीएडी और बीटीसी को खत्म करने के लिए एक घृणित और दुर्भावनापूर्ण प्रयास किया है। इसी के साथ कहा कि “मिसनोमर” उन्होंने कहा कि यह एक बोडो-राज्य के लिए स्वदेशी बोडो-ट्राइबल लोगों की 50 साल पुरानी जायज मांग को तोड़फोड़ करने के इरादे से जल्दबाजी में की गई एक गैर-व्यावहारिक नई राजनीतिक व्यवस्था थी।
यही कारण है कि आज आदिवासी संगठनों ने राज्य सरकार की इस तरह की हानिकारक राजनीतिक साजिश का कड़ा विरोध किया है। बासुमतारी ने आगे कहा कि आदिवासी संगठन बीटीसी चुनावों को अनिश्चित काल के लिए स्थगित करने और बीटीएडी में गवर्नर रूल को बढ़ाने के इरादे से असम सरकार की हानिकारक रणनीतियों का पुरजोर विरोध करते हैं। ऑल बोडोलैंड टेरिटरी ट्राइबल ऑर्गेनाइजेशन, नेशनल को-ऑर्डिनेशन कमेटी, ऑल बोडो पीपुल्स सिविल सोसाइटी आदी कई कन्फेडरेशन ने कोकराझार को बंद करने में समर्थन दिया है।